संवाद सूत्र, आदित्यपुर :

सरायकेला खरसावा जिले के आदित्यपुर स्थित इंजीनिय¨रग कॉलेज नेशनल इंस्टीच्यूट ऑफ टेक्नालॉजी (एनआइटी) प्रबंधन ने छात्रों की फीस माफी प्रक्रिया में अहम बदलाव किया है। अब इसके लिए छात्रों को पूरे परिवार का आय प्रमाणपत्र देने को कहा गया है। छात्रों में इस कार्रवाई से काफी नाराजगी देखी जा रही है। शुक्रवार को प्रबंधन के इस कदम के विरोध में छात्रों ने कॉलेज परिसर में विरोध प्रदर्शन किया। छात्रों का कहना था कि एनआइटी कॉलेज प्रबंधन द्वारा फीस माफी प्रक्रिया के तहत पूरे परिवार के सदस्यों की आय का विवरण मागे जाने के निर्णय सही नहीं है। छात्रों ने बताया कि इससे पूर्व फीस माफी के लिए सिर्फ पिता के आय प्रमाण पत्र को संस्थान में जमा करना होता था जो कि एसडीओ कार्यालय से निर्गत होता था। लेकिन नए फरमान के तहत कॉलेज प्रबंधन परिवार के सभी सदस्यों की आय का का पुख्ता ब्योरा माग रहा है। छात्रों की मानें तो सिर्फ पिता के आय प्रमाण पत्र से ही उनकी फीस माफ होनी चाहिए। पूर्व से चली आ रही इस प्रक्रिया के तहत एक लाख प्रतिवर्ष आय प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने पर छात्रों की पूरी फीस माफ की जाती थी। सालाना आय 5 लाख तक होने पर दो तिहाई फीस माफ होती थी। वहीं इस वर्ष संस्थान ने इस फार्मेट को बदल दिया है। मौके पर मौजूद कॉलेज के प्रोफेसर अमरेश कुमार ने बताया कि केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय से प्राप्त निर्देश के आलोक में ही यह निर्णय लिया गया है। वही छात्रों के समूह ने कॉलेज प्रबंधन पर मनमानी करने का भी आरोप लगाया है । छात्रों की मानें तो दूसरे एनआइटी ं में यह नई व्यवस्था लागू नहीं की गई है। इधर छात्रों के विरोध को देखते हुए प्रबंधन इस नई प्रक्रिया पर फिर से विचार कर सकता है। इस आशय के संकेत मिले हैं।

----------------------

सीओ ने बंद कराया निर्माण कार्य

संवाद सूत्र, आदित्यपुर : सरायकेला- खरसावा जिले के आदित्यपुर नगर निगम के वार्ड संख्या 34 में सड़क और नाले के निर्माण पर प्रशासन ने रोक लगा दी है। इस रोक से स्थानीय लोगों ने नाराजगी देखी जा रही है। आदित्यपुर नगर निगम की ओर से वार्ड 34 में मार्ग संख्या 19 से लेकर 27 तक लगभग 975 मीटर सड़क व नाले का निर्माण कार्य शुरू हुआ। निर्माण कार्य शुरू होते ही स्थानीय निवासी दिनेश लाल और अन्य लोगों ने शिकायत दर्ज करा दी। इसी के बाद गम्हरिया सीओ ने मामले की जाच कराई जिसमें खुलासा हुआ कि जिस जमीन पर नाले का निर्माण नगर निगम करा रहा है। उस जमीन का मालिक कोई और है। इसी के बाद तत्काल सीओ ने नाले का काम बंद करा दिया है। इस संबंध में आदित्यपुर नगर निगम की ओर से सीओ से कारण बताने संबंधी आवेदन दिया गया है। इधर पूर्व पार्षद सह वर्तमान पार्षद के पति द्वारा सीओ और शिकायतकर्ता के बीच मिलीभगत होने का आरोप लगाया गया है। इस विवाद के बाद तय समय-सीमा में सड़क बनने को लेकर संशय बढ़ गया है।

By Jagran