जागरण संवाददाता, सरायकेला : जिला उत्पाद विभाग के हाजत भवन का छज्जा शनिवार रात करीब एक बजे अचानक गिर गया। इससे तीन होमगार्ड जवान बाल-बाल बच गए। होमगार्ड जवानों ने बताया कि शनिवार रात को तेज आंधी व बारिश के डर से सभी जवान बरामदे में ही सो गए, क्योंकि पूरा भवन जर्जर है। यह भवन किसी भी वक्त ढह सकता है। बरामदे के एक हिस्से में बसंत महतो, हेमेंद्र महतो व परिमल गोराई सोए थे। रात करीब एक बजे अचानक ऊपर का छज्जा धंस गया, लेकिन वे बाल बाल बच गए। वहीं अंदर के कमरे का छज्जा भी गिर गया, यदि कमरे में उस समय कोई मौजूद रहता तो बड़ा हादसा हो सकता था।

---------------------------------

दैनिक जागरण ने पहले किया था आगाह

दैनिक जागरण ने 11 अप्रैल 2018 को उत्पाद विभाग के हाजत व होमगार्ड जवानों के कमरों की जर्जर स्थिति को प्राथमिकता के साथ प्रकाशित किया था। जागरण ने बड़ा हादसा होने की संभावना व्यक्त करते हुए जवानों की सुरक्षा के लिए विभाग को आगाह किया था।

भय से गुजरती है रात

उत्पाद विभाग में कुल 10 होमगार्ड जवान तैनात हैं। इस जर्जर कमरों का हमेशा गिरने का भय लगा रहता है। जवानों ने अधिकारियों को कई बार जर्जर भवन की मरम्मत कराने या दूसरे जगह रहने की व्यवस्था कराने की मांग की थी, लेकिन किसी प्रकार की पहल नहीं हुई। यहां के शौचालय भी रखरखाव के अभाव में उपयोग लायक नहीं है। इस कारण काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। वहीं हाजत कमरे का छज्जा हमेशा गिरते रहता है। हाजत में बंद आरोपियों के लिए उत्पाद विभाग का हाजत भवन सुरक्षित नहीं है।

---------------------------

कोट :

उपायुक्त के माध्यम से भवन प्रमंडल विभाग को लिखित रूप से आवश्यक मरम्मत कराने की मांग की गई थी, लेकिन अभी तक कोई पहल नहीं हुई है। एक बार फिर उपायुक्त व विभाग को भवन के वस्तुस्थिति से अवगत कराया जाएगा। बरसात से पहले भवन की मरम्मति कराने का प्रयास किया जाएगा।

जितेंद्र कुमार, उत्पाद अधीक्षक, सरायकेला-खरसावां

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस