जागरण संवाददाता, साहिबगंज : साहिबगंज में इन दिनों अक्सर बच्चा चोर की अफवाह उड़ रही है। इस दौरान विक्षिप्त व मंदबुद्धि की पिटाई हो जा रही है। खुद को समझदार बताने वाले भी झूठी सूचनाओं पर विश्वास कर उग्र होकर भीड़ में शामिल हो जाते हैं। इसलिए तो हाल के 15 दिनों में आधा दर्जन निर्दोष भीड़ के शिकार हुए। कई गंभीर रूप से जख्मी भी। ऐसी घटनाओं से पुलिसकर्मी भी परेशान हैं। बिना कारण शांति भंग हो रही है। परिणामस्वरूप पुलिस अधिकारी लगातार लोगों को इंटरनेट मीडिया के जरिए जागरूक कर रहे हैं। दुर्गापूजा के आलोक में विभिन्न थाना क्षेत्रों में हुई शांति समितियों की बैठकों में भी इस पर चिंता जताई गई। आम जन को ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए अपील की गई है।

अगस्त 2017 में चोटीकटवा गिरोह की आशंका पर भीड़ ने राधानगर थाना क्षेत्र के प्राथमिक स्वास्थ्य उपकेंद्र में चार लोगों को बंधक बना लिया था। जमकर पिटाई की थी। इसमें एक महिला की मौत हो गई थी। वह भागलपुर की रहनेवाली थी। बंधक बनाए गए लोगों को मुक्त कराने के लिए पुलिस को कई चक्र गोली चलानी पड़ी थीं। इस बार बच्चा चोर की अफवाह उड़ी है। 20 सितंबर को बरहेट के हाथीगढ़ में ग्रामीणों ने एक व्यक्ति को बच्चा बताकर पकड़ लिया था। उसकी पिटाई करने के बाद पुलिस के हवाले कर दिया। जांच-पड़ताल में वह विक्षिप्त निकला। 22 सितंबर की रात मंडरो के झिरली करहरिया में आदिवासियों ने एक युवक को बंधक बनाकर जमकर पीटा। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने उसे मुक्त कराया।

23 सितंबर को बरहड़वा थाना क्षेत्र के भीमपाड़ा में इसे आरोप में एक निर्दोष पिटाई हुई। बरहड़वा थाने की पुलिस ने उसे ग्रामीणों के चंगुल से मुक्त कराया। 30 सितंबर को रांगा थाना क्षेत्र के बरमसिया में बच्चा चोर की आशंका पर मानसिक रूप से बीमार भिखारी को पकड़कर ग्रामीणों ने पीट डाला। कुछ बुद्धिजीवियों ने समय पर पहुंच कर उस युवक को भीड़ से मुक्त कराया।

साहिबगंज एसपी अनुरंजन किस्पोट्टा  कुछ जगहों पर बच्चा चोरी की अफवाह उड़ने की बात सामने आई है। लोगों से अपील है कि वे इस तरह की किसी बात पर ध्यान न दें। अगर कहीं कोई संदिग्ध व्यक्ति दिखता है तो पुलिस को इसकी सूचना दें। संदिग्ध व्यक्ति के साथ मारपीट न करें क्योंकि इससे निर्दोष व्यक्ति को अनावश्यक हानि हो सकती है। इस बात का प्रचार-प्रसार इंटरनेट मीडिया पर न करें।

Edited By: Gautam Ojha

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट