जागरण संवाददाता, साहिबगंज : तेलंगाना के 22 बच्चे यहां के जवाहर नवोदय विद्यालय में फंसे हुए हैं। इनमें 14 लड़के व आठ लड़कियां हैं। एक्सचेंज प्रोग्राम के तहत यहां के बच्चों को वहां के नवोदय विद्यालय में भेजा गया था जबकि वहां के बच्चों का नामांकन यहां हुआ था। एक साल के बाद इस बच्चों को वापस जाना था तथा यहां के बच्चों को वहां से आना था। इसी बीच लॉकडाउन घोषित हो गया और सभी बच्चे यहां फंस गए। तेलंगाना के म्यूनिसिपल एडमिस्ट्रेशन एंड अर्बन विभाग के मंत्री केटी रामाराव ने इस संबंध में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को ट्वीट कर जानकारी दी और उन बच्चों का हालचाल पूछा। इसके बाद मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने यहां के उपायुक्त वरुण रंजन को ट्वीट कर मामले की जानकारी मांगी। डीसी ने डीएसई को स्कूल में भेजकर मामले की जानकारी ली और ट्वीट कर मुख्यमंत्री को बताया कि सभी बच्चे सुरक्षित हैं। बताया जाता है कि इन बच्चों की परीक्षा 26 मार्च को समाप्त हो रही थी। 28 मार्च को इनलोगों को यहां से जाना था। इसी बीच कोरोना को लेकर स्कूलों में अवकाश घोषित कर दिया गया। बच्चों के पुराने टिकट को कैंसिल करा कर 21 का आरक्षण कराया गया। 22 मार्च को बच्चों की ट्रेन कोलकाता से थी। इसी बीच देशव्यापी लॉकलाउन घोषित कर दिया गया जिस वजह से बच्चे यहां से नहीं जा सके।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस