जागरण संवाददाता, साहिबगंज: शहर में पिछले साल फरवरी में खोले गए पोस्ट आफिस पासपोर्ट सेवा केंद्र के माध्यम से अब तक करीब 1500 लोगों ने अपना-अपना पासपोर्ट बनवाया है। औसतन चार-पांच लोग यहां हर दिन पासपोर्ट बनवाने के लिए पहुंचते हैं। सोमवार व मंगलवार को यह संख्या कुछ अधिक होती है तो अन्य दिनों में कम। हर दिन यहां अधिकतम 40 लोगों के पासपोर्ट का वेरीफिकेशन हो सकता है, लेकिन फिलहाल इतना होता नहीं है। जागरूकता की कमी से भी यहां काफी कम लोग पहुंचते हैं।

गौरतलब है कि 2017 में तत्कालीन विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की पहल पर प्रत्येक लोकसभा क्षेत्र में एक-एक पोस्ट आफिस पासपोर्ट सेवा केंद्र खोलने का निर्णय लिया गया था। सभी जगहों पर प्रधान डाकघर में यह खुलना था। इस समझौते के आधार पर 25 फरवरी 2019 को साहिबगंज के प्रधान डाकघर में पासपोर्ट सेवा केंद्र खोला गया। तब से वह कार्यरत है। यहां सप्ताह में पांच दिन पासपोर्ट के लिए वेरिफिकेशन का काम होता है। शनिवार व रविवार को यह बंद रहता है। संताल परगना के छह जिलों में तीन जिलों में यह खोला गया। साहिबगंज के अलावा देवघर व दुमका में भी इस तरह का केंद्र कार्यरत है।

ऐसे काम करता है केंद्र: पासपोर्ट बनवाने के लिए लोगों को ऑनलाइन आवेदन करना होता है। शुल्क का भी भुगतान ऑनलाइन ही होता है। ऑनलाइन आवेदन करने के बाद अप्वाइंटमेंट की तिथि व समय दिया जाता है। आवेदक को निर्धारित समय पर पोस्ट आफिस पासपोर्ट सेवा केंद्र में पहुंचकर अपने कागजात का सत्यापन कराना पड़ता है। सत्यापन के बाद आवेदन को अग्रसारित कर दिया जाता है। रांची स्थित पासपोर्ट कार्यालय से आवेदन स्वीकृत होने के बाद आवेदक के पते पर पासपोर्ट भेज दिया जाता है।

--------------

वर्जन :::

जागरूकता की कमी की वजह से यहां पासपोर्ट बनवाने काफी कम लोग पहुंचते हैं। प्रत्येक दिन यहां 40 लोगों का वेरीफिकेशन हो सकता है। सोमवार व मंगलवार को यहां भीड़ कुछ अधिक रहती है। अन्य दिन यहां चार-पांच लोग ही वेरीफिकेशन के लिए पहुंचते हैं।

दीपक शर्मा, वेरीफिकेशन आफिसर, पासपोर्ट सेवा केंद्र साहिबगंज

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस