संवाद सहयोगी, कोटालपोखर (साहिबगंज) : सहायक अध्यापक का दर्जा मिलने सहित अन्य मांगों के पूर्ण होने पर साहिबगंज व पाकुड़ जिले के शिक्षकों ने रविवार को इस्लामपुर स्थित आवासीय कार्यालय में मंत्री आलमगीर आलम से मुलाकात की और उनका आभार जताया। सहायक अध्यापकों न कहा कि सरकार ने हमें और हमारे परिवार को सम्मान दिया है। इसके लिए वे लोग सदैव ऋणी रहेंगे। लंबे संघर्ष और साथियों की शहादत परिणाम आज दिख रहा है। हालांकि हमलोगों की मूल मांग स्थायीकरण पर अब तक पहल नहीं हुई है।

इस पर मंत्री ने कहा कि आपलोग 17-18 साल से संघर्ष कर रहे थे। यूपीए गठबंधन सरकार के शासनकाल में कोविड-19 महामारी के कारण लगभग दो साल तक इंतजार करना पड़ा। हमलोगों ने आपकी मांग को हरसंभव पूरा करने की कोशिश की है। अब किसी शिक्षक की मृत्यु होने पर उनके परिवार को अनुकंपा के आधार पर नौकरी दी जाएगी। हर साल मानदेय में भी चार फीसद वृद्धि होगी। अन्य मांगों पर सरकार विचार कर रही है। अब आपलोग भी बच्चों की शिक्षा पर अपना ध्यान केंद्रित करें। ताकि सरकार को भी लगे कि हमने जो सम्मान दिया है उनके अनुरूप काम हो रहा है।

इस मौके पर कांग्रेस प्रदेश सचिव तनवीर आलम, विधायक प्रतिनिधि बरकत खान, प्रखंड 20 सूत्री अध्यक्ष अशोक कुमार दास, कांग्रेस जिला उपाध्यक्ष सह मीडिया प्रभारी नवीद अंजुम, रांची से मो शकील, अध्यापक संघ के पाकुड़ जिलाध्यक्ष चितरंजन भंडारी, सेलिम, रेहान शेख, साहिबगंज जिलाध्यक्ष मैनूल हक, तारीर अहमद, हारुण रसीद, फैजान, मोताजुल हक, नसीम अख्तर, मनावर आलम, सत्यनारायण राणा, कमालुद्दीन, अमीरूल इस्लाम, सपन सिंह, विश्वजीत, अबुल कलाम, सुनील, दिलदार आदि थे।

Edited By: Jagran