तालझारी (साहिबगंज) : अनुमंडलीय विधिक सेवा प्राधिकार राजमहल के तत्वावधान में शुक्रवार को मंगलहाट दुर्गा मंदिर परिसर में चलंत लोक अदालत सह कानूनी जागरूकता शिविर लगाकर लोगों को कानून की जानकारी दी गई। अनुमंडलीय न्यायिक दंडाधिकारी सह विधिक सेवा समिति राजमहल के सचिव नीरज कुमार ने कहा कि प्राधिकार द्वारा लोगों को हर प्रकार की कानूनी सहायता उपलब्ध करायी जाती है। फ्रंट कार्यालय के माध्यम से प्री लिटिगेशन वादों का त्वरित निष्पादन जिला विधिक सेवा प्राधिकार द्वारा किया जाता है। जागरूकता के अभाव में लोग ऐसी कानून का लाभ नहीं ले पाते हैं। इसलिए ऐसे लोगों को जागरूक करने का काम भी विधिक सेवा समिति के माध्यम से किया जाता है। इसके अलावे अधिवक्ता अरुण कुमार साहा, ओमप्रकाश सिंह, शुभंकर सिन्हा, अमरेंद्र कुमार सिंह, विकास कुमार, पीएलबी सेमी मालतो के साथ न्यायिक कर्मी राजीव रंजन  ने भी बाल विवाह, दहेज प्रताड़ना, एसिड अटैक तथा अन्य घरेलू हिसा अधिनियम से संबंधित कई महत्वपूर्ण जानकारी दी गई। बताया गया कि बेटे का विवाह कराकर परायी बेटी को अपना घर लाते हैं। इसे यदि हम बहू का स्थान न देकर बेटी तुल्य माने तो आधे से अधिक घरेलू झगड़ा समाप्त हो जाता है। कहा कि पतोहू को भी सास को सास नहीं बल्कि माता माननी चाहिए। घर में सास-पतोहू का संबंध मां-बेटी का होते ही लगभग घर की समस्या खत्म हो जाती है और लोगों को ऐसा ही संबंध बनाने की आवश्यकता है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप