लॉकडाउन में कोई भूखे नहीं रहे इसके लिए सरकार ने राशन का भंडार खेल दिया है। बावजूद सकरीगली स्थित हाथीगढ़ गांव के ग्रामीणों को राशन नहीं मिला है। इससे आक्रोशित ग्रामीणों ने शनिवार को जमनी रेलवे फाटक के पास साहिबगंज-सकरीगली हाइवे पर बैठ गए। इस दौरान कुछ लोगों ने शारीरिक दूरी का पालन किया जाम कर दिया, लेकिन अधिकारियों के आने के बाद सभी जाम हो गए। शारीरिक दूर भूल गए।

सदर अनुमंडल पदाधिकारी पंकज कुमार साव, तालझारी बीडीओ शिवाजी भगत व तालझारी थाना प्रभारी अमर कुमार यादव ने ग्रामीणों को समझाकर धरना बंद कराया।

ग्रामीणों ने लॉकडाउन में एक महीना बीत गया। अब तक उनके गांव में सरकारी राशन का वितरण नहीं किया गया है। इस कारण उनके समक्ष भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो गई है। किसी के पास खाने पीने का सामान नहीं है। मजबूर होकर यह कदम उठाना पड़ा।

इस पर एसडीओ ने ग्रामीणों को यथाशीघ्र अनाज दिलाने को आश्वासन दिया। इसके बाद ग्रामीणों ने सड़क जाम हटाया। अनुमंडल पदाधिकारी ने वहां की मुखिया से अनाज को लेकर जानकारी ली।

मुखिया ने सर्वे कर प्रखंड के चार सौ लोगों का सूची जिला भेजी थी। जिला से 200 लोगों का ही अनाज भेजा गया। इस वजह से अनाज का वितरण नहीं किया गया। ऐसी स्थिति में मुखिया ने राशन बांटना उचित नहीं समझा।

अनुमंडल पदाधिकारी ने बताया कि लाभुकों की सूची के मिलान करने का निर्देश पंचायत सेवक व एमओ को दिया गया है। एक दो दिन में ही राशन उपलब्ध करा दिया जाएगा।

साहिबगंज प्रखंड के दियारा क्षेत्र से सैकड़ों  व्यक्ति आकर हाथीगढ़ में रह रहे है। इस कारण राशन मिलने में समस्या हो रही है।

वहीं तालझारी बीडीओ शिवाजी भगत ने बताया कि पूर्व में जो मुखिया ने सूची उपलब्ध कराई थी। उसमें कुल चार सौ नाम था। जिला से मात्र दो सौ परिवारों को राशन उपलब्ध कराया गया। उस परिवार को राशन उपलब्ध कराना, जिनको जरूरत है।

उन्होंने बताया कि हाथीगढ़ में साहिबगंज प्रखंड के दियारा क्षेत्र से आकर जो लोग बसे हैं। उनका नाम सदर प्रखंड में है। इस कारण इन सभी का राशन साहिबगंज सदर प्रखंड से उपलब्ध होगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस