साहिबगंज/तालझारी : अवैध खनन के आरोप में जिले के आठ लोगों पर प्राथमिकी दर्ज की गई है। इनमें सात लोगों पर मिर्जाचौकी थाने तो एक व्यक्ति पर तालझारी थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई है। उधर, महाराजपुर के मयूर मशीन प्राइवेट लिमिटेड नामक कंपनी को ब्लास्टिग करने पर रोक लगा दी गई है। उनके लीज एरिया की मापी की जा रही है। अगर गड़बड़ी पायी गयी तो उसपर भी प्राथमिकी दर्ज कराई जाएगी। गौरतलब हो कि 28 फरवरी को जिला वन प्रमंडल पदाधिकारी विकास पालिवाल व एसडीओ पंकज साव ने मिर्जाचौकी थाना के सुंदर मौजा में छापेमारी की थी। इस दौरान एक जगह पर पत्थर उत्खनन होते हुए पाया गया। पुलिस को देखते ही खनन कार्य में लगे लोग भाग गए। वहां से खनन कार्य में प्रयुक्त पांच ड्रील मशीन, एक ट्रैक्टर व तीन पोकलेन जब्त किया गया। इस मामले में प्रेम प्रकाश चौधरी, उमेश पांडेय, दिग्विजय वर्णवाल, डब्लू अंसारी, दाऊद अंसारी व दो अन्य पर मामला दर्ज किया गया। बताया जाता है इनमें से कुछ लोगों पर पिछले साल भी मामला दर्ज कराया गया था लेकिन इन लोगों ने अवैध खनन कार्य बंद नहीं किया। उधर, खनन पदाधिकारी ने बुधवार को तालझारी थाना क्षेत्र के बांसकोला मौजा में छापेमारी की। वहां एक जगह पर अवैध पत्थर खनन होते पाया। चार कंप्रेशर मशीन भी जब्त की गई। खनन पदाधिकारी विभूति कुमार ने बताया कि इस मामले में महाराजपुर के ही मनोज खां की संलिप्तता की बात सामने आयी है। इसलिए उसपर प्राथमिकी दर्ज करायी गई है।

मयूर मशीन प्रालि को ब्लास्टिग करने पर रोक : मोतीझरना गांव के ग्रामीणों की शिकायत पर बुधवार को जिला खनन पदाधिकारी विभूति कुमार एवं अंचल पदाधिकारी शिवाजी भगत ने स्थल निरीक्षण किया। बताया जाता है लीज मयूर मशीन प्राइवेट लिमिटेड के नाम से है। कुल 19.35 एकड़ जमीन की लीज है जिसकी मापी कराया गयी। जिला खनन पदाधिकारी विभूति कुमार ने बताया कि शिकायत मिली थी कि लीजधारी अवैध रूप से हैवी ब्लास्टिग कर रहे हैं। इसे लेकर सीओ द्वारा मापी की जा रही है। अगर लीज से अधिक क्षेत्र में खनन पाया गया तो निश्चित तौर पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। बीडीओ शिवाजी भगत ने बताया कि जनता दरबार में ग्रामीणों ने उपायुक्त से शिकायत की थी कि हैवी ब्लास्टिग के कारण घर में दरार पड़ गया है। पत्थर उड़कर आ जाते हैं। खनन कार्य से काफी मात्रा में प्रदूषण गांव में फैल रहा है। उपायुक्त के निर्देशानुसार मापी की प्रक्रिया चल रही है। मापी के बाद ही ही पता चलेगा कि यह वैध है या अवैध। साथ ही उन्होंने कहा कि प्लांट में पौधरोपण व नियमित रूप से पानी छिड़काव का आदेश दिया गया है ताकि गांव में प्रदूषण न फैले। मोतीझरना ग्रामीणों की शिकायत है कि पत्थर खनन करने से गांव के आसपास पत्थर उड़कर आ जाता है जिससे कभी भी बड़ी दुर्घटना हो सकती है। ब्लास्टिग होने से आसपास के घरों में दरार आ जाता है। डीएमओ ने ब्लास्टिग पर रोक लगा दी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस