संस, साहिबगंज : सदर अस्पताल में मंगलवार की रात्रि चिकित्सक पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए प्रसूता के परिजनों ने जमकर हंगामा किया। परिजनों ने बताया कि मंगलवार शाम 4 बजे मंजू देवी को प्रसव के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उसने एक बच्चे को जन्म दिया था जन्म के उपरांत बच्चा नहीं रोया जिसके कारण कार्यरत नर्स ने उसे रोने की सुई लगा दी। सुई लगते ही बच्चा काफी देर तक रोता रहा, वही परिजन बच्चे को चुप कराने का बहुत प्रयास किया, लेकिन वह चुप नहीं हुआ। अंतत: हालत बिगड़ते देख कार्यरत एएनएम ने परिजनों को बाहर के किसी शिशु रोग विशेषज्ञ से बच्चे को दिखाने की बात कही। जबतक बाहर किसी चिकित्सक को दिखाने ले जाया जाता नवजात की मौत हो गयी। परिजनों कहना था कि सदर अस्पताल में चौबीसों घंटे आपातकालीन सेवा के लिए शिशु रोग विशेषज्ञ रहते हैं, लेकिन  मंगलवार की रात्रि सदर अस्पताल में शिशु रोग विशेषज्ञ के अनुपस्थिति के कारण समय रहते नवजात का उपचार नहीं करने से उसकी मौत हो गई।

परिजनों का आरोप है कि अस्पताल में ड्यूटी पर तैनात किसी भी कर्मचारी द्वारा नवजात बच्चे के उपचार हेतु किसी भी सक्षम पदाधिकारी या शिशु रोग विशेषज्ञ को तत्काल इसकी सूचना नहीं दी गई, जिससे बच्चे की मौत हो गई। सिविल सर्जन डॉ. एके ¨सह ने कहा कि मामले की जांच कराई जाएगी। जांच के बाद दोषी कर्मियों पर कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Jagran