जागरण संवाददाता, रांची : राची की एक महिला ने 25 साल बाद उपायुक्त राय महिमापत रे से हजारीबाग के हॉलीक्रॉस सोशल वेलफेयर सोसाइटी के खिलाफ एक बच्चा को गायब करने की शिकायत की है। उपायुक्त ने मामले की जाच का आदेश देते हुए रांची जिला समाज कल्याण पदाधिकारी से रिपोर्ट मागी है। इस पर रांची हजारीबाग के जिला समाज कल्याण कार्यालय से संबंधित मामलों में संपर्क साधा है और रिपोर्ट मांगी है।

काटाटोली के चुनवा टोली में रहने वाली महिला शीला बाप्टिस्ट ने उपायुक्त को बताया कि वह अनाथ है। कान से कम सुनाई देता है। 25 साल की उम्र में वह विधवा हो गई थी। विधवा होने के बाद से उसकी परेशानी बढ़ गई। जीवन बसर करना मुश्किल हो गया था। उसके साथ एक छोटा बच्चा भी था। घटना 1993 की है। उसने बताया है कि मुझे किसी ने हॉली क्रॉस के सिस्टरों के बारे में बताया कि सिस्टर ऐसे लोगों की मदद करती हैं। इसके बाद वह हॉली क्रॉस सोशल वेलफेयर सोसाइटी के सिस्टरों के पास गईं।

वहा जाने के बाद मुझे सिस्टरों ने बच्चा सौंपने को कहा। उसने बताया कि वह बच्चा सौंपने को तैयार नहीं थी। इस पर सिस्टरों ने उसे प्रताड़ित करना शुरू किया। उसे एक कमरे में बंद कर दिया गया। भोजन भी नहीं दिया जा रहा था। सिस्टरों ने कहा कि बच्चा नहीं सौंपने पर उसे मार दिया जाएगा। इसके बाद मैंने बच्चा सौंप दिया। इसके बाद उसे वहां से निकाल दिया गया। महिला ने संदेह जताया है कि हजारीबाग से उसके बच्चे को दिल्ली के मुखर्जीनगर स्थित हॉली क्रॉस सोशल सर्विस सेंटर में रखा गया है।

हजारीबाग जिला समाज कल्याण पदाधिकारी से इसकी रिपोर्ट मागी गई है। रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। उपायुक्त ने महिला की शिकायत पर जाच के निर्देश दिए हैं।

कंचन सिंह

जिला समाज कल्याण पदाधिकारी, रांची

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस