रांची, जेएनएन। मौसम बदल रहा है। शाम ढलते ही सर्दी का एहसास होने लगता है। ऐसे में स्वास्थ्य के प्रति लापरवाही बरतने पर बीमार पडऩा तय है। रिम्स मेडिसिन के डॉ. बी कुमार ने बताया कि ठंड के मौसम में मरीजों की संख्या सबसे ज्यादा होती है। लेकिन लापरवाही के कारण लोग ज्यादा बीमार पड़ते हैं। सबसे ज्यादा लोग शुरुआती ठंड से ही बीमार पडऩे लगते हैं। इसलिए शुरुआती ठंड में ही गर्म कपड़े का प्रयोग करें।

देर रात तक ऑफिस में काम करने वाले कर्मचारियों को फिलहाल गर्म कपड़े का उपयोग शुरू कर देना चाहिए। यही नहीं ठंड बढऩे की स्थिति में शाम होते ही गर्म कपड़े का प्रयोग करें। रात में गर्म भोजन लें। पीने के साथ नहाने में भी गर्म पानी का इस्तेमाल करें। खुले बदन बाहर निकलने से बचें। बूढ़े-बच्चे रात के समय उलेन कपड़ों का इस्तेमाल करें।

सर्दी-खांसी, बुखार-डायरिया व अन्य बीमारियों का खतरा

डॉक्टरों का कहना है कि ठंड के शुरुआती दौर में विभिन्न बीमारियों की चपेट में आ सकते हैैं। सर्दी-खांसी, बुखार, कोल्ड डायरिया, लकवा, चक्कर आना, पेट दर्द आदि बीमारी का सामना करना पड़ सकता हैं। इससे बचने के लिए एहतियात बरतने की जरूरत है।

Posted By: Alok Shahi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस