चतरा, जासं । प्रतिबंधित उग्रवादी संगठन तृतीय सम्मेलन प्रस्तुति कमेटी के सेकेंड इन चीफ जोनल कमांडर मुनेश्वर गंझू उर्फ मुकेश गंझू ने चतरा पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया है। वह पिछले कुछ समय से पुलिस के शीर्ष अधिकारियों के संपर्क में था। हालांकि पुलिस के अधिकारी विधिवत रूप से मुकेश गंझू के आत्मसमर्पण की पुष्टि नहीं कर रहे हैं। उनका कहना है कि जिला पुलिस को एक बड़ी उपलब्धि मिली है। जिसकी घोषणा शुक्रवार को विधिवत रूप से प्रेस कांफ्रेंस करके की जाएगी। वहीं सूत्रों का कहना है कि पुलिस जिस उपलब्धि की दावा कर रही है, वह मुनेश्वर उर्फ मुकेश गंझू का आत्मसमर्पण ही है।

सूत्रों का कहना है कि मुनेश्वर उर्फ मुकेश आत्मसमर्पण कर चुका है। पुलिस उससे पूछताछ कर रही है। मुकेश दुर्दांत उग्रवादी है। उसके विरुद्ध झारखंड, बिहार, उड़ीसा और छत्तीसगढ़ के विभिन्न जिलों में दर्जनों मामले दर्ज है। जिसमें हत्या, दुष्कर्म, अपहरण, पुलिस के साथ मुठभेड़ जैसे संगीन अपराध शामिल है। पहले वह भाकपा माओवादी में था। 2004 में भाकपा माओवादी से विघटित होकर टीएसपीसी का गठन किया गया था। टीएसपीसी के गठन में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका मुकेश एवं ब्रजेश गंझू की थी।

मुकेश के आतंक का अंदाजा इस बात से लगा सकता है कि झारखंड सरकार ने उसकी गिरफ्तारी पर 15 लाख रुपए का इनाम रखा है। इनाम की राशि पूर्व में 10 लाख ही थी। लेकिन चार दिन पूर्व पुलिस अधीक्षक ऋसव कुमार झा ने इनाम की राशि दस से पंद्रह लाख की है। सेकेंड इन चीफ को कुछ मामलों में एनआईए भी तलाश कर रही है। उसका आत्मसमर्पण करना पुलिस के लिए एक बड़ी उपलब्धि मानी जा रही है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021