रांची, जेएनएन। Lalu Yadav, Mamata Banerjee, Tejashwi Yadav राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के छाेटे बेटे तेजस्‍वी यादव (Tejashwi Yadav) ने बीते दिन बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) से कोलकाता (Kolkata) में मुलाकात की और उन्‍हें राजद (RJD Support TMC) के खुले समर्थन का एलान किया। इसके लिए उन्‍होंने लालू (Lalu) के आदेश का हवाला दिया। हालांकि, तेजस्‍वी (Tejashwi) का अपने पिता लालू यादव (Lalu Yadav) के आदेश से बंगाल चुनाव में ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) की तृणमूल कांग्रेस (TMC) को सपोर्ट करने वाला यह बयान लालू (Lalu) के लिए भारी पड़ सकता है। लालू अभी जेल में बंद हैं। ऐसे में उनपर एक बार फिर से राजनीति करने का आरोप लग सकता है। लालू को चारा घोटाले (Fodder Scam) के दूसरे मामलों में मिली जमानत (Lalu Yadav Bail Rejected) भी रद हो सकती है।

राजद सुप्रीमो (RJD Chief) लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के छोटे बेटे तेजस्‍वी यादव (Tejashwi Yadav) ने बंगाल चुनाव में ममता बनर्जी (Mamata Banarjee) को खुलकर सपोर्ट करने का एलान किया है। इसके लिए उन्‍होंने लालू (Lalu) के आदेश का हवाला दिया। हालांकि उनका यह बयान उनके पिता लालू यादव (Lalu Yadav) की मुसीबत बढ़ा सकता है। ताजा हालात में तेजस्‍वी (Tejashwi Yadav) के इस बयान से जेल में सजा काट रहे लालू को जमानत (Lalu Yadav Bail Rejected) मिलने में मुश्किलें पैदा करेगा। इससे पहले कई बार लालू (Lalu Prasad Yadav) पर जेल से राजनीति करने का आरोप लग चुका है। लालू पर जेल मैनुअल उल्‍लंघन के मामले में झारखंड हाई कोर्ट में सुनवाई भी चल रही है।

लालू से जुड़े फोन विवाद (Lalu Yadav Phone Call Incident) के एक मामले में झारखंड हाई कोर्ट (Jharkhand High Court) ने पहले ही स्‍वत: संज्ञान लेते हुए उन पर जेल मैनुअल का उल्‍लंघन करने के मामले में सुनवाई शुरू कर दी है। तब लालू पर रांची के रिम्‍स RIMS Ranchi) से अपने सेवादार के फोन से बिहार के मुख्‍यमंत्री (Chief Minister of Bihar) नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की सरकार गिराने के प्रयास करने के आरोप लगे थे। उस समय भाजपा के विधायक ललन पासवान (Lalan Paswan BJP) को फोन कर लालू ने कथित तौर पर मंत्री बनाने का लालच दिया था। उस समय बिहार भाजपा के नेता सुशील कुमार माेदी (Sushil Kumar Modi) ने इस मुद्दे पर बेहद मुखर प्रतिक्रिया दी थी। बहरहाल, तेजस्‍वी के लालू के आदेश पर ममता को सपोर्ट करने का बयान लालू (Lalu Prasad Yadav) पर एक बार फिर से भारी पड़ सकता है।

बीते दिन कोलकाता में समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए, राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेता तेजस्वी यादव ने पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों में ममता बनर्जी को खुलकर समर्थन देने का एलान किया था। तेजस्वी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) काफी बड़ी पार्टी है और वे पूरे बरात के साथ पश्चिम बंगाल में आई है। बीजेपी के  इस बारात जुलूस में कई कैबिनेट मंत्री शामिल हैं। लेकिन उनका 'दूल्हा' (दूल्हा) कौन है ?। उन्‍होंने सवालिया लहजे में कहा कि मुझे एक भाजपा नेता का नाम बताएं जो सरकार चलाने में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से अधिक अनुभवी है। भाजपा क्‍या बंगाल में सरकार को किसी अनुभवहीन नेता के हाथ में सौंपना चाहती है।

यहां तेजस्‍वी यादव ने ममता बनर्जी से मुलाकात के बाद मीडिया से बातचीत में खुले तौर पर कहा कि जेल की सजा काट रहे लालू यादव ने ममता जी को सपोर्ट करने का आदेश दिया है। हम पूरी तरह टीएमसी के साथ हैं। अब सजायाफ्ता लालू यादव की ओर से ऐसे आदेश दिए गए हैं, तो यह बयान मुश्किलें बढ़ाने वाला साबित हो सकता है। संभव है कि झारखंड हाई कोर्ट इस मामले में फिर से संज्ञान ले।

इससे पहले उच्‍च न्‍यायालय ने लालू के पटना में अपने घर से राजनीति करने के गंभीर आरोपों पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए उनकी जमानत तक रद कर दी थी। तब लालू को अपने बड़े बेटे तेज प्रताप यादव की शादी के बाद सरेंडर करना पड़ा था। बाद में लालू बेल कैंसिल कर उन्‍हें जेल भेज दिया गया। तेजस्‍वी के लालू के आदेश से ममता को सपोर्ट करने वाले स्‍वीकारोक्ति बयान के बाद एक बार फिर अदालत जेल से राजनीति करने के आरोप पर लालू का शिकंजा कस सकता है।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021