रांची, जेएनएन। राज्यसभा के पूर्व सांसद एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता अजय मारू ने पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के निधन पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए इसे व्यक्तिगत क्षति बताया है। मारू ने कहा कि सुषमा स्वराज एक महान नेता ही नहीं बल्कि एक सहृदय एवं मृदुभाषी महिला थी। उन्होंने कहा कि सुषमा स्वराज ने विदेश मंत्री के रूप में भारत का परचम पूरे विश्व में लहराने में योगदान दिया। सुषमा स्वराज के निधन की क्षतिपूर्ति नहीं की जा सकती।

एक ओजस्वी नेता सुषमा स्वराज की सबसे बड़ी खासियत यह थी कि उनका पक्ष एवं विपक्ष के नेताओं के साथ मधुर संबंध था। मारू ने कहा कि सुषमा स्वराज एक बेदाग नेता थी और कभी उन पर कोई आरोप नहीं लगा। उन्होंने कहा कि सुषमा स्वराज हमेशा लोगों की मदद करती थी। जब भी वह सुषमा स्वराज से मिलते थे, वह बड़े स्नेह एवं प्यार से बात करती थी। उन्होंने कहा कि उन्हें राज्यसभा में विभिन्न मुद्दों पर भाषण करते सुना। उनके भाषण में शालीनता एवं आक्रामकता दोनों रहता था।

उन्होंने कहा कि सुषमा स्वराज से कई बार मिलने का मौका मिला। उनकी सरलता अद्भुत थी। मारु ने कहा कि उनकी आत्मशक्ति अद्भुत थी। तबीयत खराब रहने के बावजूद मृत्यु के चार घंटे पहले उन्होंने ट्वीट के जरिये कश्मीर में धारा 370 हटाने के सरकार के निर्णय को लेकर प्रधानमंत्री को बधाई दी। जब सुषमा स्वराज सूचना एवं प्रसारण मंत्री थी, तब उनके साथ मंत्रालय में संसदीय समिति में रहकर काम करने का अवसर मिला।

पूर्व विदेश मंत्री स्वर्गीय सुषमा स्वराज का रांची दूरदर्शन केंद्र के विकास में अहम योगदान रहा है। वर्ष 2001 में जब वह सूचना एवं प्रसारण मंत्री थी, तब उन्होंने इस केंद्र के नए स्टूडियो का उद्घाटन किया था। इसके अलावा सुषमा स्वराज ने दूरदर्शन केंद्र से कार्यक्रमों का सीधा प्रसारण करवाया था।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sujeet Kumar Suman

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप