जागरण संवाददाता, रांची : हिदू जागरण मंच के क्षेत्रीय संगठन मंत्री डॉ. सुमन कुमार ने कहा कि सनातन मार्ग पर चलकर ही दुनिया में शाति संभव है। भारत ने हजारों सालों से इससे साबित करके दुनिया को दिखा दिया है। हम झगड़ा झझट व दंगा फसाद के समर्थक नहीं हैं। पश्चिम बंगाल में जो हो रहा है, वह बंद होना चाहिए। भाईचारगी व अमन के गीत सिर्फ किताबों में लिखने व मुखौटा बनकर दिखाने के लिए नहीं है, बल्कि जमीनी स्तर पर शाति की झलक दिखनी चाहिए। उन्होंने रविवार को राची के सुकुरहुटू मुरली टुंगरी में आयोजित युवा सम्मेलन को संबोधित करते हुए उक्त बातें कही। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में महिलाएं भी पहुंची थी। बंगाल में जिहादी खूनी खेल बंद होनी चाहिए

बंगाल के मुर्शिदाबाद में संघ के स्वयंसेवक की परिवार सहित हुई निर्मम हत्या पर की घोर निंदा करते हुए डॉ सुमन ने कहा, आखिर कब तक हमारे निर्दोष लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ेगी। मानवता के पथ पर चलने वाले लोगों की निर्मम हत्या साक्षात मानवता की हत्या है। जिहादी खूनी खेल बंद होनी चाहिए। धैर्य की पराकाष्ठा हमसे ना लें। देशहित के समर्पित लोगों की हत्या पर एवार्ड वापसी कथित सिंडिकेट चुप क्यों हैं? मीडिया के कथित सेकुलर गैंग भी चुप क्यों हैं? आज वामपंथी बौद्धिक आतंकी भी मौन हैं। आज विपक्षी नेताओं की भी चुप्पी देश में धार्मिक पक्षपात का पोल खुलता दिखता है। संघ बीते 94 सालों से राष्ट्रहित व मानव हित में निरंतर लगा हुआ है। हिंसा से हमारा कोई संबंध नहीं, लेकिन लगातार जिहादी खूनी खेल से देश आज आहत है।

मातृशक्ति के मजबूत होने से राष्ट्र मजबूत होगा

मातृशक्ति की ओर से प्रतिनिधितत्व कर रही सुरीची अग्रवाल ने कहा, मातृशक्ति को आत्मनिर्भर होकर शक्ति का केंद्र होना होगा। बिना बेटी बचाए सुखद सृष्टि की कल्पना नहीं की जा सकती। हमारी बेटी, बहन व बहु की राक्षस जैसी जिहादी कृत्यों से सुरक्षित बचना अति आवश्यक है। लव जिहाद के चक्कर से देश देश की बेटियों को बचना चाहिए। उन्होंने कहा, हम दंगा फसाद व झगड़ा झझट नही चाहते लेकिन अपमानित होकर रहना भी नहीं चाहते। हमने बहुत ही धैर्य का परिचय दिया अब दूसरे लोग भी भाईचारगी निभाएं। सिर्फ कथनी से भाई भाई के गीत गाने से नहीं चलेगा। उसे धरातल में उतारना होगा। कार्यक्रम के अंत में भारत माता की महा आरती की गई। मंच संचालन रमेश साहू ने किया तथा धन्यवाद ज्ञापन अर्जुन राम ने किया। इस मौके पर राकेश कर्ण, काशी नाथ बेदिया, गोविंद महतो, अजय पहान, ताराचंद साहु, दशरथ साहू,उपेंद्र साहू,विकेश मुंडा, जयमंगल उराव, निरंजन महतो, अशोक महतो, अजय अग्रवाल, अंजस राम, किरण देवी, रेखा देवी, सुरुचि अग्रवाल के साथ काफी संख्या में महिला शक्ति की उपस्थिति रही।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस