देवघर, जासं। Shravani Mela 2019 - बैद्यनाथ धाम को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय फलक पर पहचान दिलाना झारखंड सरकार की प्राथमिकता में शामिल है। इसके लिए राज्य कैबिनेट ने श्रावणी मेला को राष्ट्रीय मेला का दर्जा देने का प्रस्ताव केंद्र सरकार को भेजा है। इसे राष्ट्रीय मेला घोषित किए जाने के बाद बैद्यनाथधाम की महत्ता अंतरराष्ट्रीय फलक पर होगी। इसकी वजह से न सिर्फ देवघर बल्कि आसपास के बसे धार्मिक व पर्यटन स्थलों का तेजी से विकास हो होगा बल्कि रोजगार के अवसर भी सृजित होंगे। उक्त बातें मुख्यमंत्री रघुवर दास ने देवघर के दुम्मा में बुधवार को विश्वप्रसिद्ध श्रावणी मेला का उद्घाटन करते हुए कही।

उन्होंने कहा कि अगर किसी श्रद्धालु को कोई शिकायत हो तो वह सोशल मीडिया के जरिये शिकायतें दर्ज करा सकते हैं, उस पर शीघ्र संज्ञान लिया जाएगा। सावन माह में देश-विदेश के कोने-कोने से आने वाले शिवभक्तों को बेहतर सुविधा मुहैया कराने के लिए सरकार कृतसंकल्प है।

दुम्‍मा में दीप प्रज्वलित कर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने किया श्रावणी मेला का विधिवत उदघाटन। साथ में पर्यटन मंत्री अमर बाउरी, समाज कल्याण मंत्री डा.लुईस मरांडी, श्रम मंत्री राज पालिवार, कृषि मंत्री रणधीर सिंह भी मौजूद हैं।
इससे पूर्व दुम्मा में पिंकू महाराज की अगुवाई में वैदिक मंत्रोच्चार के बीच पूरे विधि-विधान से मेले की शुरुआत की गई। उपायुक्त राहुल कुमार सिन्हा ने माहव्यापी मेला के दौरान प्रशासनिक स्तर पर श्रद्धालुओं के लिए किए गए इंतजामों के बारे में जानकारी दी। दुम्मा से बासुकीनाथ जाने के क्रम में मुख्यमंत्री रघुवर दास मदरसा मैदान में श्रद्धालुओं के लिए लगाई गई शिवलोक प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया।
इन स्थलों को संवारने की हो रही कोशिश
सीएम के अनुसार देवघर में वैद्यनाथ धाम मंदिर और मेला क्षेत्र के अलावा नौलखा मंदिर, नंदन पहाड़, नवदुर्गा, त्रिकुटी पहाड़, रिखिया आश्रम और अन्य धार्मिक व पर्यटन स्थलों को संवारने की पहल की गई है।

देवघर में 19 करोड़ की लागत से बनेगा सांस्कृतिक केंद्र
सीएम ने कहा कि देवघर में प्रसाद योजना के तहत निविदा की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है और अब इसके माध्यम से भी देवघर का समग्र विकास होगा। जल्द ही टैगोर सांस्कृतिक केंद्र योजना के तहत देवघर में 19 करोड़ की लागत से सांस्कृतिक केंद्र बनेगा। केंद्र सरकार इस पर मुहर लग चुकी है साथ ही केंद्रांश की राशि भी स्वीकृत कर दी है।
बासुकीनाथ में भी 20 करोड़ से प्रसाद योजना की होगी शुरुआत
मुख्यमंत्री ने कहा कि देवघर में फूड क्राफ्ट इंस्टीट्यूट 2020 तक काम करने लगेगा। बासुकीनाथ में भी 20 करोड़ की लागत से प्रसाद योजना शुरू होगी। इसके तहत धार्मिक एवं सांस्कृति स्थलों का विकास होगा।

पेश करें स्वच्छता और सेवा की मिसाल : अमर
मौके पर उपस्थित पर्यटन मंत्री अमर कुमार बाउरी ने कहा कि देवघर में श्राइन बोर्ड की गठन के बाद से यहां की व्यवस्था में लगातार सुधार हो रहा है। उन्होंने कहा कि प्रशासन व देवघर की जनता मिलकर मेला माहव्यापी मेला को सफल बनाएं। इस वर्ष मुख्यमंत्री रघुवर दास के स्तर से मेला का मूलमंत्र स्वच्छता व विनम्रता दिया गया है। इसलिए मेला ड्यूटी पर तैनात एक-एक कर्मी इस मूलमंत्र का निर्वहन कर कांवरियों की सेवा करें ताकि वे यहां से बेहतर संदेश लेकर वापस जाएं।
मौके पर यह भी थे मौजूद
इस मौके पर सूबे की समाज कल्याण मंत्री डॉ. लुईस मरांडी, श्रम मंत्री राज पलिवार, कृषि मंत्री रणधीर सिंह, विधायक नारायण दास, पर्यटन सचिव राहुल शर्मा, संताल परगना के आयुक्त विमल कुमार, डीआइजी राजकुमार लकड़ा, पर्यटन विभाग के विशेष सचिव संजय कुमार सिंह, देवघर नगर निगम की डिप्टी मेयर नीतू देवी, अखिल भारतीय पंडा धर्मरक्षिणी महासभा के अध्यक्ष डॉ. सुरेश भारद्वाज, महामंत्री कार्तिकनाथ ठाकुर, बीस सूत्री उपाध्यक्ष मिथिलेश सिन्हा, भाजपा महिला मोर्चा जिला अध्यक्ष विजया सिंह, राजीव सिंह, वार्ड पार्षद रीता चौरसिया, भाजपा नेता पंकज सिंह भदौरिया समेत बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।

Posted By: Alok Shahi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस