रांची : होटलों, ढाबों तथा अन्य खाद्य प्रतिष्ठानों को ट्रेंड सुपरवाइजर अनिवार्य रूप से रखना होगा। फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एफएसएसएआइ) ने इसे अनिवार्य करते हुए फूड सेफ्टी ट्रेनिंग एंड सर्टिफिकेशन कार्यक्रम लागू किया है।

दो दिवसीय दौरे पर रांची पहुंचीं एफएसएसएआइ की अध्यक्ष रीता तेवतिया ने इसे लेकर बुधवार को योजना भवन सभागार में खाद्य निदेशालय के पदाधिकारियों तथा ट्रेनिंग पार्टनर्स के साथ बैठक कीं। उन्होंने बताया कि 20 फूड हैंडलर्स (स्टाफ) पर एक ट्रेंड सुपरवाइजर रखना अनिवार्य है। इस पर स्वास्थ्य सचिव डॉ. नितिन मदन कुलकर्णी ने उन्हें बताया कि खाद्य प्रतिष्ठानों के प्रशिक्षण को लेकर नोटिस जारी कर दिया गया है।

इससे पहले तेवतिया ने स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी के साथ भी बैठक की तथा खाद्य सुरक्षा को लेकर एफएसएसएआइ की पहल की जानकारी दी। स्वास्थ्य मंत्री ने अथॉरिटी के सभी कार्यक्रमों को झारखंड में लागू करने का आश्वासन दिया।

स्वास्थ्य विभाग के पदाधिकारियोंके साथ हुई बैठक में एफएसएसएआइ की अध्यक्ष ने खाद्य सुरक्षा के लिए जिम्मेदार सभी पदों पर शीघ्र नियुक्ति सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। अध्यक्ष ने खाद्य प्रतिष्ठानों को लाइसेंस निर्गत करने व रजिस्ट्रेशन में हुई कई त्रुटियों का उल्लेख करते हुए उन्हें दूर करने का निर्देश दिया।

इन त्रुटियों में एक ही पते पर दो-दो लाइसेंस निर्गत होने, जिन खाद्य प्रतिष्ठानों को लाइसेंस लेना है उनका रजिस्ट्रेशन तथा जिनका रजिस्ट्रेशन होना है उन्हें लाइसेंस निर्गत करने आदि शामिल हैं।

तेवतिया गुरुवार को खाद्य कारोबारियों के साथ बैठक करेंगी। इसके बाद फूड फोर्टिफिकेशन पर विभिन्न विभागों के सचिवों के साथ बैठक करेंगी। अध्यक्ष शाम में ईट राइट कंपेन को लेकर विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों के साथ भी बैठक करेंगी।

फूड टेस्टिंग लैब को मिले 3.28 करोड़

राज्य सरकार ने नामकुम स्थित फूड टेस्टिंग लैब को सुदृढ़ करने के लिए 3.28 करोड़ रुपये दिए हैं। इस राशि से लैब के लिए कई मशीन-उपकरण खरीदे जाएंगे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस