रांची, [संजय कुमार]। कोरोना महामारी से देश में आई इस संकट की घड़ी में समाज को साथ लेकर जिस तरह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के स्वयंसेवक जरूरतमंदों की मदद कर रहे हैं, वह अद्भुत है। पूरा संघ परिवार मिलकर 4.20 लाख कार्यकर्ताओं के सहारे 7.04 करोड़ लोगों तक भोजन एवं 1.10 करोड़ लोगों तक राशन पहुंचा चुका है। जैसे ही अपने घरों को पैदल या किसी छोट-मोटे वाहनों से लौट रहे प्रवासी मजदूरों का दर्द स्वयंसेवकों के सामने आया, पूरे देश में नेशनल हाइवे पर राहत कैंप खोल दिए गए हैं।

रांची, आगरा, बरेली, बनारस, गाजियाबाद, भुवनेश्वर, रायपुर, प्रयागराज सहित जहां-जहां से मजदूर गुजर रहे हैं, वहां-वहां खोले गए राहत शिविरों में मजदूरों के लिए नाश्ता, भोजन, पानी, सत्तू, तरबूज आदि की व्यवस्था की गई है। इन कैंपों में रात-दिन स्वयंसेवक सेवा के काम में लगे हैं। कई जगहों पर तो खाली पैर चलने वाले लोगों के लिए चप्पल भी उपलब्ध कराए जा रहे हैं। प्रशासन के सहयोग से लोगों को घरों तक पहुंचाने के लिए बसें भी उपलब्ध कराई जा रही हैं।

राहत कैंप खोलने में नहीं की देर

राष्ट्रीय सेवा भारती के केंद्रीय महामंत्री श्रवण कुमार ने कहा कि जैसे ही मजदूरों का दर्द लोगों के सामने आया, एनएच पर राहत कैंप खोलने में स्वयंसेवकों ने देरी नहीं की। सेवा भारती के साथ मिलकर आरएसएस के स्वयंसेवकों ने अभी तक 5 करोड़ 42 लाख लोगों को भोजन कराने एवं लगभग 70 लाख परिवारों तक राशन पहुंचाने का काम किया गया है। दिल्ली से चलने वाले मजदूरों के लिए आगरा में विशेष कैंप खोले गए हैं। रांची में पांच स्थानों पर कैंप चलाए जा रहे हैं।

भोजन करा रहे हैं विहिप के कार्यकर्ता

विश्व हिंदू परिषद के केंद्रीय महामंत्री मिलिंद परांडे ने कहा कि विहिप के कार्यकर्ताओं ने एक करोड़ 25 लाख लोगों तक भोजन एवं 20 लाख से अधिक परिवारों तक राशन पहुंचाने का काम किया है। अब नेशनल हाइवे पर मजदूरों को भोजन कराने के लिए कैंप खोल दिया गया है। अभाविप की महामंत्री निधि त्रिपाठी ने कहा कि 33 लाख से अधिक लोगों को अब तक भोजन कराने का काम किया है।

जम्मू केंद्रीय संस्कृत विवि के बच्चों की स्वयंसेवकों ने की मदद

जम्मू के केंद्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय के बीएड विभाग के 126 बच्चे स्कॉट के साथ तीन बसों में भरकर जब अपने घर ओडिशा के लिए चले तो रास्ते में हर जगह स्वयंसेवकों ने उनके भोजन व पानी की व्यवस्था की। रांची में दैनिक जागरण से बातचीत करते हुए ये बच्चे स्वयंसेवकों की सेवा से इतने खुश थे कि उनकी तारीफ करते हुए नहीं थक रहे थे।

'सेवा के इस काम में पूरा संघ परिवार लगा है। नेशनल हाइवे के साथ-साथ जहां जैसी जरूरत होगी, वहां सेवा का काम अभी चलता रहेगा। राहत के काम में वनवासी कल्याण केंद्र, एकल अभियान, भारतीय मजदूर संघ, विद्या भारती, हिंदू जागरण मंच सहित अन्य संगठन भी लगे हैं।' -नरेंद्र ठाकुर, संघ के अखिल भारतीय सह प्रचार प्रमुख।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस