रांची, जासं। RPF, Ranchi Railway Station, Jharkhand News Samachar रांची रेलवे स्टेशन पर घर से अभिभावकों को बिना बताए आई एक किशोरी को आरपीएफ ने पकड़कर चाइल्डलाइन को सौंप दिया है। यह किशोरी रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर एक पर टहल रही थी। शक होने पर आरपीएफ की नन्हे फरिश्ते टीम से प्रीति उरांव और मोहिनी ने उसे पकड़कर पूछताछ की तो उसने बताया कि वह अपने घर से भाग कर आई है।

किशोरी अपने घर वालों का कोई मोबाइल नंबर नहीं बता सकी। इस वजह से नन्हे फरिश्ते टीम ने उसे चाइल्डलाइन के सुपुर्द कर दिया है। चाइल्ड लाइन किशोरी के परिजनों का पता लगाने के बाद उसे अभिभावकों को सौंप देगी। गौरतलब है कि आरपीएफ ने कम उम्र के बच्चों की तस्करी को रोकने के लिए नन्हे फरिश्ते टीम बनाई है। यह टीम रेलवे स्टेशन पर 24 घंटे निगरानी करती है।

रेलवे स्टेशन पर दिखाई देने वाले किशोर और किशोरियों से पूछताछ कर उन्हें उनके घर तक वापस पहुंचा देती है। रांची रेलवे स्टेशन के जरिए मानव तस्कर बच्चों की तस्करी करते हैं। कई बार आरपीएफ ने उन्हें पकड़ कर जेल भेजा है और उनके चंगुल में फंसी किशोरियों को बरामद कर उनके घर भेजा है। आरपीएफ के प्रयास के चलते अब तक रांची रेलवे स्टेशन से  मानव तस्करी की घटनाएं काफी कम हो गई हैं।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप