रांची (दिलीप कुमार) । बहुचर्चित चारा घोटाले में सजायाफ्ता रिम्स में इलाजरत राजद सुप्रीमो सह बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के मोबाइल की घंटी हर दिन घनघना रही है। राजद सुप्रीमो लालू यादव की सुरक्षा में रिम्स के केली बंगला में तीन मजिस्ट्रेट, एक डीएसपी सहित 43 जवान तैनात हैं। इसके बावजूद सजायाफ्ता लालू यादव धडल्ले से फोन का इस्तेमाल कर रहे हैं। रिम्स परिसर स्थित रिम्स निदेशक के केली बंगला पर राजद के केंद्रीय मुख्यालय का ठप्पा तो पहले से ही लगा था, अब भारी सुरक्षा के बावजूद इस बंगले को बिहार विधानसभा चुनाव के लिए चुनावी कार्यालय भी बताया जा रहा है। इस बार नया खुलासा राजद के ही नेता कमलेश शर्मा के वायरल वीडियो से हो रहा है, जिसमें वे कह रहे हैं कि उनसे लालू प्रसाद यादव जेल से रोज बात करते हैं। लालू प्रसाद यादव फोन कर कार्यक्रमों की तस्वीरें मांगते हैं।

उन्हें तस्वीरें भी भेजी जाती हैं। वे फोन पर बाहर के लोगों के संपर्क में रहते हैं। वर्तमान में लालू प्रसाद यादव की सुरक्षा में तीन मजिस्ट्रेट, एक डीएसपी, एक इंस्पेक्टर, तीन एएसआइ, तीन संतरी पोस्ट पर तैनात जवान के अलावा 40 जवान ड्यूटी बजा रहे हैं। इतनी बड़ी सुरक्षा के बीच लालू प्रसाद यादव के मोबाइल की घंटी बजने के दावे सुरक्षा व्यवस्था की पोल खोलता दिख रहा है। हालांकि, राजद नेता के दावे को खारिज करते हुए बिरसा मुंडा केंद्रीय कारा होटवार के अधीक्षक हामिद अख्तर का कहना है कि मजिस्ट्रेट की प्रतिनियुक्ति के पूर्व लालू प्रसाद यादव के मुलाकात की बात सामने आने के बाद सुरक्षा कड़ी की गई है।

हर दिन उनसे मिलने वाले लोग आते हैं, लेकिन उन्हें मिलने की अनुमति नहीं दी जाती है। सिर्फ शनिवार को अधिक से अधिक तीन लोगों के लिए मुलाकात की अनुमति दी जाती है। इतने कड़े पहरे के बावजूद मोबाइल पर बातचीत की बात गलत है। उनके परिसर के बाहर हर दिन उनसे मिलने की इच्छा रखने वालों की भारी तादाद देखी जा सकती है, लेकिन मिलने या चिट्ठी देने की अनुमति किसी को नहीं है।

केरल की एक विधायक भी मिलने पहुंची, नहीं मिली अनुमति

बिरसा मुंडा केंद्रीय कारा होटवार के अधीक्षक हामिद अख्तर के अनुसार मंगलवार को केरल की एक महिला विधायक लालू प्रसाद यादव से मिलने के लिए पहुंची थी, लेकिन नियमों का हवाला देकर उन्हें लालू प्रसाद यादव से मिलने की अनुमति नहीं मिली। वे रिम्स गेट से वापस लौट गई हैं।

बिहार में सत्ता पक्ष व राजद आमने-सामने

बिहार की राजनीति में राजद नेता कमलेश शर्मा के बयान के बाद से ही सत्ता पक्ष व राजद आमने-सामने है। कमलेश शर्मा हाल ही में जदयू से राजद में शामिल हुए हैं। उन्होंने खुद को गया के टेकारी विधानसभा क्षेत्र का प्रत्याशी घोषित किया है। उनके लालू से बातचीत के वायरल वीडियो पर सत्ता पक्ष ने झारखंड की हेमंत सरकार को आड़े हाथ लेते हुए जेल से संचालित हो रही राजद की राजनीति पर सवाल उठाया है। इस मामले में राजद बैकफुट पर है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस