राज्य ब्यूरो, रांची : वैसे सामान्य रूप से रिटायर शिक्षकों को राष्ट्रीय अवार्ड नहीं मिलता, लेकिन केंद्र सरकार ने इस बार इसमें कुछ रियायत दी है। इसके तहत संबंधित कैलैंडर वर्ष में कोई शिक्षक चार माह तक सेवा देने के बाद रिटायर हुआ हो तो वह भी इस अवार्ड का हकदार होगा, बशर्ते वह अन्य सभी योग्यता रखता हो।

इस तरह, अप्रैल 2017 तक सेवा देनेवाले तथा इसके बाद रिटायर होनेवाले शिक्षक इस अवार्ड के लिए ऑनलाइन आवेदन दे सकेंगे। केंद्र सरकार द्वारा 2017 के राष्ट्रीय अवार्ड के लिए राज्य सरकार को भेजी गई गाइडलाइन में इसका उल्लेख किया गया है।

केंद्र द्वारा जारी गाइडलाइन के अनुसार, पारा शिक्षक व अनुबंध पर कार्यरत अन्य शिक्षक इस अवार्ड के लिए योग्य नहीं होंगे। वहीं, शिक्षक प्रशिक्षण संस्थानों के कर्मी, एजुकेशन इंस्पेक्टर आदि भी इसके लिए योग्य नहीं होंगे। गाइडलाइन के अनुसार, ट्यूशन कार्य में संलग्न शिक्षकों को भी यह अवार्ड नहीं मिलेगा।

केंद्र सरकार ने शिक्षकों के मूल्यांकन के लिए 100 अंकों का मैट्रिक्स तैयार किया है। इसमें 20 अंक आब्जेक्टिव हैं, जबकि शेष 80 अंक शिक्षकों के परफारमेंस पर आधारित हैं। बता दें कि केंद्र सरकार ने पहली बार शिक्षकों के राष्ट्रीय अवार्ड के लिए ऑनलाइन प्रक्रिया शुरू की है। इसके लिए केंद्र का पोर्टल 30 जून तक खुला रहेगा।

ऑनलाइन आवेदन के मूल्यांकन के बाद जिला व राज्य स्तर पर स्क्रूटनी के बाद तीन शिक्षकों की अनुशंसा केंद्र सरकार को भेजी जाएगी। केंद्र में गठित जूरी द्वारा शिक्षकों का चयन अवार्ड के लिए किया जाएगा। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा शिक्षक दिवस के अवसर पर पांच सितंबर को चयनित शिक्षकों को अवार्ड दिया जाएगा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप