रांची, जेएनएन। Republic Day Parade 2020 Rachi, Jharkhand गणतंत्र दिवस के अवसर पर राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने रांची के मोरहाबादी मैदान में झंडारोहण किया। राज्‍यपाल ने यहां परेड की सलामी ली। इधर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने दुमका के पुलिस लाइन मैदान में झंडारोहण किया। इसके बाद सीएम ने परेड की सलामी ली। राज्यपाल ने अपने संबोधन में कहा कि बेरोजगारी एक ज्वलंत समस्या है। हमारी सरकार पंचायत से लेकर राज्य स्तर पर व्याप्त रिक्तियों वह जल्द से जल्द भरेगी। किसानों को सब्जियों के लिए भी न्यूनतम समर्थन मूल्य दिया जाएगा।

रांची के मोरहाबादी मैदान में तिरंगा को सलामी देतीं राज्‍यपाल द्रौपदी मूर्मू। साथ में मुख्‍य सचिव डीके तिवारी और डीजीपी केएन चौबे।

राज्‍यपाल ने कहा कि सरकारी विद्यालयों को अंग्रेजी माध्यम के स्कूलों से बेहतर बनाया जाएगा। प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी के लिए छात्र छात्राओं को निशुल्क कोचिंग की सुविधा उपलब्ध होगी। लोगों को राज्य में ही आधुनिक चिकित्सा उपलब्ध हो सके इसके लिए सरकार काम करेगी। पर्यटन स्थलों का विकास करेंगे वहां रोजगार के अवसर पैदा करेंगे। राज्यपाल ने गणतंत्र दिवस समारोह में सशस्त्र बल संयुक्त परेड का निरीक्षण किया। कार्यक्रम में विभिन्न विभागों, बोर्ड तथा निगमों द्वारा तैयार झांकियां भी प्रदर्शित की जा रही हैं। उत्कृष्ट परेड करने वाली टुकडिय़ों व झांकियों को पुरस्कृत किया जाएगा।

रांची के मोरहाबादी मैदान में झंडारोहण करतीं झारखंड की राज्‍यपाल द्रौपदी मूर्मू।

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने झारखंड की उपराजधानी दुमका के पुलिस लाइन ग्राउंड में झंडारोहण करने के बाद परेड का निरीक्षण किया। इसके बाद वे उत्कृष्ट परेड व झांकियों को पुरस्कृत किया। गणतंत्र दिवस के अवसर पर दुमका के पुलिस लाइन से  झारखंड की जनता को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने एक कड़ा संदेश दिया है। उन्होंने कहा कि कानून किसी को हाथ में लेने का हक नहीं है। ऐसा करने वालों के खिलाफ सरकार कड़ाई से निपटेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि शासन और प्रशासन संवेदनशीलता से काम करेगा। साथ ही, हमारी सरकार राज्य की शांति बिगाड़ने वाले तत्वों से कड़ाई से निपटेगी।

चाईबासा लोहरदग्गा की घटना मैं मर्माहत हूं : सीएम

मुख्यमंत्री ने कहा कि चाईबासा लोहरदग्गा की घटना मैं मर्माहत हूं। उन्होंने कहा कि राज्य के हर नागरिक से यह अपील करता हूँ कि संविधान से मिले अपने अधिकारों के तहत अपनी बात रखें। सभी को अपनी बात कहने का हक़ है। सभी को अपनी परम्परा और संस्कृति के अनुसार जीने का अधिकार है।भारत का संविधान सभी को अपना धर्म संप्रदाय भाषा परंपरा और संस्कृति के अनुसार जीवन जीने का अधिकार देता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह राज्य संविधान के प्रावधानों और सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार चलेगा। किसी को यह अधिकार नहीं दिया जा सकता है कि वे संविधान को चुनौती दें किसी को भी हिंसा करने की छूट नहीं दी जा सकती। राज्य की शान्ति बिगाड़ने वालों के ख़िलाफ़ सरकार सख्ती से पेश आएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि भीड़तंत्र के आगे ना तो हमारी सरकार झुकेगी, ना ही किसी भीड़तंत्र को अपनी मनमानी करने की छूट दी जाएगी।

गणतंत्र दिवस के  अवसर पर दुमका पुलिस लाइन मैदान में परेड का निरीक्षण करते मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन।

सीएम हेमंत सोरेन ने झारखंड के लोगो के लिए मांगा सुझाव

इधर सीएम ने गणतंत्र दिवस की बधाई देते हुए झारखंड के प्रतीक चिह्न (LOGO) लोगो के लिए सुझाव मांगा है। आम जनता अपने सुझाव 11 फरवरी तक ईमेल jharkhandstatelogo@gmail.com के माध्यम से दे सकते हैं। मंत्रिपरिषद ने पहली बैठक में राज्य के नए लोगो (Logo) के निर्माण का निर्णय लिया था। मुख्यमंत्री ने यह कहा कि हमारा झारखंड एक नये राह की ओर है। सबकी आकांक्षाओं के अनुरूप हमारी मंत्रिपरिषद ने पहली बैठक में राज्य के नए लोगो (Logo) के निर्माण का निर्णय लिया था। जो हमारी समृद्ध संस्कृति और विरासत का प्रतिबिंब हो। यह लोगो (Logo) हम झारखंडवासियों की पहचान होगा। इसलिए इसके निर्माण में आपकी भागीदारी सबसे अहम है। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि आज गणतंत्र दिवस के दिन हम आपसे आह्वान करते हैं आइए नये झारखंड के निर्माण में सहयोग दें।

झारखंड रक्षा शक्ति विश्वविद्यालय में 71वें गणतंत्र दिवस के पावन अवसर पर विश्वविद्यालय प्रांगण में कुलपति अजय कुमार सिंह (भारतीय प्रशासनिक सेवा) द्वारा तिरंगा फहराया गया। उसके पश्चात छात्रों को प्रमाण पत्र दिया गया l मौके पर वित्त पदाधिकारी कर्नल राजेश कुमार सहित विश्वविद्यालय के शिक्षक गण छात्रगण कर्मचारी गण काफी संख्या में उपस्थित हुएl सभी ने एक दूसरे को गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं एवं बधाइयां दीं।

पाकुड़ के आरजे स्टेडियम में ध्वजारोहण करते मंत्री आलमगीर आलम।

राजभवन में नहीं होगा 'ऐट होम' कार्यक्रम

इस वर्ष गणतंत्र दिवस के अवसर पर राजभवन में 'ऐट होम' कार्यक्रम नहीं होगा। पश्चिमी सिंहभूम की घटना को लेकर यह निर्णय लिया गया है। बता दें कि शाम में आयोजित होने वाले इस कार्यक्रम में राज्यपाल, मुख्यमंत्री, मंत्री सहित कई गण्यमान्य लोग शामिल होते थे। 

हाई कोर्ट में झंडातोलन करने बाद अन्य न्यायधीशों के साथ चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन।

गणतंत्र दिवस पर कांग्रसियों ने लिया संविधान की रक्षा का संकल्प

कांग्रेस पार्टी के प्रदेश मुख्यालय में गणतंत्र दिवस पर रविवार को सभी कांग्रेसि‍यों ने संविधान की रक्षा का संकल्प लिया। सभी जिला मुख्यालयों में कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिसमें संविधान की प्रस्तावना पढ़ी गई। गणतंत्र दिवस पर कांग्रेस मुख्यालय में प्रदेश अध्यक्ष डॉ. रामेश्वर उरांव ने झंडारोहण किया और सभी नेताओं को संविधान की रक्षा करने का संकल्प दिलाया। यहां संविधान की रक्षा पर विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया।

Posted By: Alok Shahi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस