रांची, राज्य ब्यूरो। Remdesivir Injection कोरोना पर प्रभावी नियंत्रण के मद्देनजर झारखंड सरकार ने राज्य में रेमडेसिवर दवा की उपलब्धता सुनिश्चित करने की कवायद आरंभ की है। इसके तहत बंगलादेश की एक दवा कंपनी से संपर्क किया गया है। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने बंगलादेश से इस जीवन रक्षक दवा को आयात करने के लिए केंद्र सरकार से अनुमति मांगी है। केंद्रीय उर्वरक एवं रसायन मंत्री डीवी सदानंद गौड़ा को लिखे पत्र में उन्होंने कहा है कि झारखंड में कोरोना संक्रमण के बढ़ रहे मामले को देखते हुए इसकी आवश्यकता बड़े पैमाने पर महसूस की जा रही है।

रेमडेसिवर कोरोना के इलाज के लिए कारगर दवा है। झारखंड में इसकी काफी कमी है। तमाम प्रयासों के बावजूद मरीजों को इसकी आपूर्ति नहीं हो पा रही है। इसका विपरीत असर पड़ रहा है। झारखंड ने रेमडेसिवर के 76640 वायल की मांग की थी, लेकिन इसके मुकाबले सिर्फ 8038 वायल की आपूर्ति पिछले पखवारे में हो पाई। इसके कारण जरूरतमंद मरीजों को यह दवा नहीं मिल पा रही है।

देश में इस दवा की उत्पादक कंपनियों से संपर्क किए जाने के बाद सफलता नहीं मिली तो अंतरराष्ट्रीय बाजार में इसकी उपलब्धता का पता लगाया गया है। झारखंड सरकार को बंगलादेश की बेक्समीको दवा कंपनी से 50 हजार वायल का कोटेशन मिला है। इसपर एक मिलियन डालर की लागत आएगी। झारखंड की जरूरत को देखते हुए केंद्र सरकार बंगलादेश से इसके आयात की अनुमति प्रदान करे ताकि लोगों की जान बचाई जा सके।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप