रांची, [दिलीप कुमार]। Ranchi Violence रांची के मेन रोड में 10 जून को जुमे की नमाज के बाद भड़की हिंसा, उपद्रव, पत्थरबाजी व गोलीबारी की घटना के बाद पुलिस ने बड़े पैमाने पर प्रशासनिक कार्रवाई की। इस घटना में अलग-अलग तिथियों में विभिन्न थानों में कुल 48 प्राथमिकी दर्ज की गईं हैं। यह किसी एक घटना में अब तक की सर्वाधिक प्राथमिकी है। इससे संबंधित रिपोर्ट पुलिस मुख्यालय ने तैयार कर लिया है, जिससे केंद्रीय गृह मंत्रालय को अवगत कराया जाएगा।

रांची हिंसा के दौरान मेन रोड बवाल की घटना में दो युवकों की जान चली गई थी, जबकि दो दर्जन से अधिक जख्मी हुए थे। इस घटना में पुलिस-प्रशासन के अलावा उपद्रव में शामिल दूसरे पक्ष के लोगों ने भी प्राथमिकी दर्ज कराईं। रांची पुलिस इन सभी मामलों की जांच कर रही है। रांची के डीसी-एसएसपी ने भी राज्य सरकार को जो अपनी प्रारंभिक रिपोर्ट सौंपी थी, उसमें इस बात का जिक्र किया था कि बिना पूर्व सूचना के 10 हजार की भीड़ जुमे की नमाज के बाद सड़क पर उतर गई।

उग्र भीड़ को रोकने गई पुलिस टीम पर उपद्रवियों ने पथराव कर दिया, भीड़ ने गोलियां भी चलाई। इस पत्थरबाजी में दर्जनभर पुलिसकर्मी-पदाधिकारी भी जख्मी हो गए। एक जवान को गोली भी लग गई। उग्र भीड़ को रोकने संबंधित निरोधत्मक कार्रवाई के बाद पुलिस को आत्मरक्षार्थ फायरिंग करनी पड़ी, जिसके बाद भीड़ नियंत्रित हो पाई। उपद्रव में अभी तक कुल 29 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

अफवाह फैलाने, दंगा भड़काने की कोशिश में 12 कांड दर्ज

दर्ज 48 प्राथमिकी में 12 कांड इंटरनेट मीडिया पर अफवाह फैलाने, दंगा भड़काने की कोशिश करने के मामले में दर्ज हैं। इसमें छह कोतवाली, चार हिंदपीढ़ी व एक-एक कांड लोअर बाजार थाना तथा चान्हो थाने में दर्ज है।

इन थानों में दर्ज हैं शेष 36 कांड

रांची के डेलीमार्केट थाने में 12, डोरंडा में दो, हिंदपीढ़ी में तीन, लोअर बाजार थाने में दो, कोतवाली में एक व जगन्नाथपुर थाने में एक प्राथमिकी के अलावा आठ अन्य प्राथमिकी अलग-अलग थानों में दर्ज हैं। इस प्रकार कुल 36 कांड इन थानों में दर्ज हैं।

सीआइडी पहुंचा पुलिस मुख्यालय का आदेश, दो दिनों में अनुसंधानकर्ता का नाम होगा तय

रांची के मेन रोड हिंसा की सीआइडी से जांच कराने संबंधित पुलिस मुख्यालय का आदेश सोमवार को सीआइडी पहुंच गया। अभी अनुसंधानकर्ता का चयन नहीं हो पाया है। उम्मीद है दो दिनों के भीतर सीआइडी के एडीजी वहां के अनुसंधानकर्ता का चयन करेंगे और इससे संबंधित नोटिफिकेशन जारी करेंगे। नाम तय होने के बाद उक्त अनुसंधानकर्ता तब रांची पुलिस के पास जाएंगे और केस के अनुसंधान के लिए चार्ज लेंगे। मिली जानकारी के अनुसार सीआइडी सिर्फ प्रमुख कांड का ही अनुसंधान करेगी, शेष कांडों की जांच रांची जिले के ही अधिकारी करेंगे।

राज्य सरकार की उच्च स्तरीय समिति भी कर रही है पूरे मामले की जांच

सरकार के आदेश पर उत्पाद सचिव डा. अमिताभ कौशल व एडीजी अभियान संजय आनंदराव लाठकर की उच्च स्तरीय समिति भी मेन रोड में बवाल, हिंसा मामले की जांच कर रही है। इस कांड से जुड़े सभी चश्मदीदों, पीड़ितों का बयान भी लिया जा रहा है। समिति ने राज्य सरकार से एक महीने के भीतर जांच रिपोर्ट सौंपने के लिए वक्त मांगा था। पहले समिति को सरकार ने एक सप्ताह के भीतर रिपोर्ट देने का निर्देश दिया था।

Edited By: Alok Shahi