जागरण संवाददाता, रांची : रांची विवि में अप्रत्यक्ष तरीके से छात्र संघ चुनाव 13 दिसंबर को है। विवि स्तर के चुनाव में एक प्रत्याशी के हटने के बाद अब 11 उम्मीदवार मैदान में बचे हैं। शनिवार को दिन के चार बजे तक नामांकन वापस लेने का अंतिम समय था। उपाध्यक्ष पद की केओ कॉलेज गुमला की प्रत्याशी विनिता कुमारी ने नाम वापस ले लिया।

विवि के डीएसडब्ल्यू कार्यालय में शनिवार को शाम पांच बजे प्रत्याशियों की अंतिम सूची जारी कर दी गई। चुनाव के रिटर्निग अधिकारी डॉ. एसएनएल दास ने बताया कि चुनाव मैदान में 11 प्रत्याशी हैं जिनके लिए मतदान होगा। मतगणना 13 दिसंबर को ही मोरहाबादी स्थित बेसिक साइंस भवन स्थित पीजी जियोलॉजी विभाग में होगी।

बढ़ी चुनाव की सरगर्मी : नाम वापसी के बाद छात्र संघ चुनाव की सरगर्मी बढ़ गई है। अब सभी छात्र संगठन जोड़-तोड़ की राजनीति में जोर लगा रहे हैं। अध्यक्ष पद को छोड़ बाकी अन्य चारों पदों पर सीधा मुकाबला होगा। कारण इनमें दो-दो प्रत्याशी मैदान में हैं। अध्यक्ष पद के लिए मुकाबला त्रिकोणीय हो जाएगा, क्योंकि इसमें तीन उम्मीदवार अपना भाग्य आजमा रहे हैं। स्वतंत्र उम्मीदवार कुलपति मुंडा, एसीएस के संदीप उरांव, अभाविप की नेहा मार्डी अध्यक्ष पद के लिए खड़े हैं। उपाध्यक्ष पद के लिए अभाविप से केओ कॉलेज गुमला के कुणाल कु.शर्मा, आजसू से पीजी के पंचम मुंडा के बीच मुकाबला होगा। वहीं सचिव पद के लिए डोरंडा कॉलेज से अभाविप के सौरभ बोस व आजसू के सोनू कुमार पंडित के बीच टक्कर होगी। आसान नहीं होगा जादुई आंकड़ा 41 छूना

कॉलेज स्तरीय चुनाव के बाद अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने सबसे अधिक सीटें जीतकर विवि स्तरीय चुनाव में सभी पाचों सीटों पर अपना उम्मीदवार उतार दिया है। अभाविप का दावा है कि उसके पास चुनाव जीतने के लिए 42 वोट हैं। इधर आदिवासी छात्र संघ (सुशील उरांव गुट) व आजसू दोनों ने मिलकर पांचों पदों पर उम्मीदवार दिया है। ये भी जीत के लिए जादुई आंकड़ा 41 से अधिक वोट का दावा कर रहे हैं। वैसे इस दावे के खेल में दोनों गुट की नजर जेसीएम के दो, एनएसयूआई के दो व दो निर्दलीय पर है। जादुई आंकड़ा छूने में इनकी अहम भूमिका मानी जा रही है। निर्दलीय समय आने दें कह चुप्पी साधे हैं। कुल मिलाकर सभी जादुई आंकड़े छूने के लिए शतरंज की गोटी सेट कर रहे हैं।

Posted By: Jagran