रांची, राज्य ब्यूरो। रांची के कोतवाली थाने में दर्ज विधायकों की खरीद-फरोख्त से संबंधित मामले में पुलिस फूंक-फूंककर आगे बढ़ रही है, ताकि अनुसंधान में कोई चूक न हो। पुलिस की दो टीम राज्य से बाहर है। एक टीम दिल्ली व दूसरी टीम मुंबई में बताई जा रही है। दोनों ही टीम को यह टास्क दिया गया है कि विधायकों की खरीद-फरोख्त से संबंधित साक्ष्य को जुटाएं, ताकि न्यायालय में पुख्ता सबूत दिया जा सके।

इस पूरे प्रकरण में गिरफ्तारी के बाद आरोपित अभिषेक कुमार दुबे व निवारण प्रसाद महतो ने पुलिस को पूछताछ में बताया है कि वे लोग झारखंड के तीन स्थानीय विधायक के साथ 15 जुलाई को रांची हवाई अड्डा से दिल्ली के लिए रवाना हुए थे। दिल्ली में एयरपोर्ट से सभी द्वारका स्थित होटल विवांता पहुंचे। उनके साथ महाराष्ट्र के व्यवसायी जय कुमार बेलखेड़े उर्फ बालकुंडे व वहां के दो भाजपा विधायक चंद्रशेखर राव बावनकुले व चरण सिंह भी थे।

रांची पुलिस की अनुसंधान टीम होटल विवांता का सीसीटीवी फुटेज भी खंगालेगी, ताकि यह स्पष्ट हो सके कि आरोपित के स्वीकारोक्ति बयान में कितनी सच्चाई है। आरोपित ने अपने बयान में यह भी कहा है कि झारखंड के तीनों ही विधायक होटल विवांता से निकलने के बाद कुछ बड़े नेताओं के यहां भी पहुंचे। सबूत जुटाने के सिलसिले में अनुसंधान टीम वहां भी जाएगी।

सभी आरोपितों के मोबाइल का सीडीआर खंगाल रही है पुलिस

रांची पुलिस की अनुसंधान टीम विधायकों की खरीद-फरोख्त के मामले में सभी आरोपितों का कॉल डिटेल्स रिकाॅर्ड (सीडीआर) खंगाल रही है। इनमें मुंबई से रांची पहुंचे व्यवसायी मोहित भारतीय, अनिल कुमार, आशुतोष ठक्कर, जय कुमार शंकर राव जीव बेलखड़े शामिल हैं। ये चारों रांची के होटल ली-लैक में ठहरे थे। मोहित भारतीय पेशे से व्यवसायी हैं। मुंबई में इनका सोने-चांदी और रीयल एस्टेट का व्यापार है। इन आरोपितों की रांची में किसके साथ कब-कब बैठक हुई, मोबाइल पर कितनी बातचीत हुई, यह सब ब्यौरा निकाला जा रहा है।

होटल संचालक ने भी साधी चुप्पी

स्वीकारोक्ति बयान के आधार पर रांची में विधायकों की खरीद-बिक्री संबंधित डील होटल ली-लैक में हुई। इस संबंध में होटल ली-लैक से पूरे मामले की जानकारी लेने की कोशिश की गई तो होटल संचालक ने इस पूरे प्रकरण पर बातचीत या सहयोग करने से इन्‍कार कर दिया। होटल प्रबंधन की ओर से कहा गया कि जो भी जानकारी देगी, पुलिस देगी, उन्हें कुछ भी बोलने से मना किया गया है। पहले दिन पुलिस ने तीनों ही आरोपितों की गिरफ्तारी होटल से बताया था, लेकिन जब यह भंडाफोड़ हो गया कि दो आरोपित बोकारो से गिरफ्तार कर लाए गए थे, तब पुलिस ने भी इस मामले में कुछ भी स्पष्ट बताने से इन्‍कार किया। इस पूरे प्रकरण में कोई अधिकृत बयान देने से पुलिस बच रही है।

Edited By: Sujeet Kumar Suman