रांची, जासं: जेपीएससी पीटी एग्जाम के रिजल्ट में हुई गड़बड़ी को लेकर अब झारखंड स्टेट स्टूडेंट यूनियन के सदस्य आर पार की लड़ाई के मूड में है। गत दिनों न्याय गुहार यात्रा में आए छात्रों पट हुए लाठीचार्ज और रिजल्ट को लेकर कोई ठोस परिणाम सामने नहीं आने पर इनकी नाराजगी साफतौर पर सामने आ रही है। छात्र नेता मनोज यादव ने कहा कि सरकार को अब सामने आना चाहिए क्योंकि जेपीएससी पूरी तरह से दिव्यांग है और उन्होंने कटऑफ लिस्ट में भी गड़बड़ी की है। उन्होंने कहा कि जेपीएससी अब औपबंधिक रिजल्ट की बात कर रही है। ऐसे में सहज ही समझा जा सकता है कि जेपीएससी छात्रों के भविष्य को लेकर कितना गंभीर है। प्रदर्शन करने वालों ने कहा कि स्पोर्ट्स, दिव्यांग कोटा से कोई लिस्ट जारी नहीं की गई है। पूरी तरह से लीपापोती का खेल खेला जा रहा है। वक्ताओं ने कहा कि भाई भतीजावाद की नीति बंद करना ही होगा। आयोग के जवाब से प्रदेश के सभी अभ्यर्थियों में आक्रोश है। वक्ताओं ने कहा कि सिर्फ टालमटोल की नीति अपनाई जा रही है। जिसका हर मोर्चे पर विरोध होगा।

विरोध करेंगे तो हो जाता है एफआईआर

प्रदर्शन कर रहे देवेंद्र नाथ महतो ने कहा कि आंदोलन के 25 वें दिन आयोग द्वारा टालमटोल जवाब और शांतिपूर्ण तरीके से न्याय गुहार यात्रा करने वाले निहत्थे छात्रों पर लाठीचार्ज कराया गया। जो उनकी नीति का विरोध करता है उसके खिलाफ झूठा एफआईआर दर्ज करा दिया जाता है। उन्होंने कहा कि केस ही करना है तो प्रदेश के 2.48 लाख अभ्यर्थियों पर केस करना होगा। झारखंड स्टेट स्टूडेंट यूनियन के सदस्य प्रदर्शन करते हुए कहा कि साहेबगंज, लोहरदगा समेत अन्य जगहों पर जारी किए गए सीरियल रिजल्ट मामले में भी जेपीएससी ने कोई ठोस जवाब नहीं दिया है। गैर जिम्मेदाराना तरीके से सारा कार्य कराया जा रहा है। अब तक रिजेक्शन शीट क्यों नहीं जारी किया गया। इस मौके पर देवेंद्र नाथ महतो, प्रवीण चौधरी, परवेज आलम, सुनील सुमन, सुरेंद्र पासवान, ऋतुराज समेत कई अन्य मौजूद रहे।

Edited By: Madhukar Kumar