रांची,जासं। Ranchi HEC कई महीनों के बाद एचईसी सीएमडी नलिन सिंघल बुधवार को एचईसी मुख्यालय पहुंचे। इधर एचईसी के लगभग 300 अधिकारियों का प्रदर्शन पिछले 24 दिन से जारी है। एचईसी अधिकारी बकाया वेतन की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं। इसी बीच कई बार सीएमडी से मिलने की मांग भी अधिकारियों ने रखी है। लेकिन अब तक मुलाकात नहीं कराया गया।

अधिकारियों से हो सकती हैं सीएमडी की मुलाकात

अधिकारी का कहना है कि मुख्यालय पहुंचने के बाद सीएमडी के द्वारा बुधवार को मिलने का आश्वासन दिया गया है। अधिकारियों का यह भी कहना है कि एचइसी बंदी के मुहाने पर खड़ा है। केंद्र सरकार पहले एचइसी को बंद करेगी। इसके बाद निजी हाथों में देगी। इसी प्रक्रिया पर केंद्र सरकार कार्य कर रही है। राज्य सरकार अगर पहल करती है, तो एचइसी को बचाया जा सकता है।

एचईसी अधिकारीयों का पिछले 13 माह का वेतन बकाया

बता दें की एचईसी अधिकारीयों का पिछले 13 माह का वेतन बकाया है जिससे अधिकारी आक्रोशीत है। वेतन न मिलने के कारण अधिकारियों का घर परिवार चलाना मुश्किल हो गया हैं। इसी के साथ एचईसी को बचाने के लिए पांच श्रमिक संगठनो ने भी हस्ताक्षर अभियान चलाकर प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौपने का निर्णय लिया है। इसमें हटिया प्रोजेक्ट वर्कर्स यूनियन, हटिया कामगार यूनियन, हटिया मजदूर यूनियन , हटिया लोकमंच और एचईसी लिमिटेड श्रमिक कर्मचारी यूनियन के प्रतिनिधि उपस्थित होगें।

श्रमिक संगठन चलाएंगे हस्ताक्षर अभियान

संयुक्त रुप से निर्णय लिया गया कि एचईसी को बचाने के लिए पांचो श्रमिक संगठन हस्ताक्षर अभियान चलाएंगे। इसके बाद प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपा जाएगा। इस महीने के में प्लांट के श्रमिक,अधिकारी और पदाधिकारी मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपेंगे। एक प्रतिनिधि मंडल दिसंबर के मध्य में दिल्ली जाकर उद्योग मंत्री से मिलकर ज्ञापन सौपेंगा। बता दें की एचईसी मजदूरों का भी पिछले आठ माह का वेतन बकाया है, जिससे मजदूर भी आक्रोशीत है।

Edited By: Sanjay Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट