रांची, जासं। दुर्गा पूजा पर होने वाले मूर्ति विसर्जन को लेकर केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने नई गाइडलाइंस जारी कर दी है। नगर निगम को भी पत्र भेजकर इन दिशा निर्देशों का पालन कराने को कहा गया है। इसमें कहा गया है कि देवी-देवताओं की मूर्तियों के विसर्जन के लिए जल स्रोत के एक कोने पर जलकुंड बनाया जाए। इस जलकुंड को लाल फीता और बांस से घेरा जाएगा।

मूर्तियों के विसर्जन के 48 घंटे के अंदर मूर्तियों को जल स्रोत से निकालने का निर्देश दिया गया है। साथ ही बताया गया है कि जल स्रोतों को प्रदूषण मुक्त रखने के लिए मूर्तियों में इस्तेमाल होने वाले कृत्रिम आभूषणों को विसर्जन से पूर्व ही निकाला जाए। इसे लेकर नगर निगम ने सभी पूजा समितियों को हिदायत जारी कर दी है कि वह मूर्ति विसर्जन से पहले मूर्तियों में लगे कृत्रिम आभूषण निकाल लें।

विसर्जन के लिए जारी है तालाबों की सफाई

मूर्ति विसर्जन के लिए नगर निगम तालाबों की सफाई कर रहा है। कल आधा दर्जन तालाब साफ किए गए। आज भी तालाबों की सफाई का सिलसिला जारी रहेगा। उप नगर आयुक्त शंकर यादव ने बताया कि आज भी तकरीबन आधा दर्जन तालाबों की साफ-सफाई कर वहां विसर्जन के सारे इंतजाम किए जाएंगे।

नवरात्रि एवं विजयादशमी के आलोक में रांची नगर निगम के द्वारा लगातार सफाई के कार्य किए जा रहे हैं। डाइजेशन का कार्य किया जा रहा है। विभिन्न तालाबों में सफाई का कार्य जारी है। खासकर उन तालाबों में जहां विसर्जन होना है, विसर्जन स्थल चिन्हित किया गया है। रांची नगर निगम के पदाधिकारियों, मैनेजर, सुपरवाइजर एवं सफाई मित्रों, चालकों आदि के द्वारा लगातार कार्य किए जा रहे हैं। इसी क्रम में बड़ा तालाब स्थित विसर्जन स्थल का मुआयना मुकेश कुमार करते नजर आए। उन्‍होंने रांची नगर निगम द्वारा किए जा रहे सफाई कार्य का निरीक्षण किया। भ्रमण के दौरान के शंकर यादव उप नगर आयुक्त, किरण कुमारी सहायक स्वास्थ्य पदाधिकारी ओमकार, आफताब एवं अजमेर सिटी मैनेजर भी उपस्थित रहे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021