रांची/तुपुदाना, जासं। Ranchi Crime News रांची के तुपुदाना इलाके स्थित रिंग रोड के समीप मंगलवार को कुख्यात अपराधी राजू गोप अपने दो साथियों के साथ एक जमीन कारोबारी की हत्या करने पहुंचा, लेकिन पुलिस ने दीपक कुमार और सन्नी को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस राजू गोप को नहीं पकड़ पाई। पुलिस के सामने राजू गोप हथियार लहराते हुए भागने में सफल रहा। पुलिस ने गिरफ्तार आरोपितों के पास से एक क्रेटा गाड़ी, पिस्टल, दो बाइक और गोली बरामद किया है। पुलिस दोनों आरोपितों से पूछताछ कर रही है।

पुलिस को सूचना मिली थी कि रिंग रोड में एक जमीन कारोबारी की हत्या होने वाली है। पुलिस की टीम पहले से रिंग रोड में मौजूद थी। राजू गोप जैसे अपने साथियों के साथ पहुंचा तो पुलिस ने उन्हें घेर लिया। लेकिन पुलिस राजू गोप को नहीं पकड़ पाई। राजू गोप पुलिस के सामने से हथियार लहराते हुए फरार हो गया। राजू गोप के साथ आए दो अपराधियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

बता दें कि तुपुदाना पुलिस ने पिछले सप्ताह पीएलएफआई के संदीप बारला, सुबोध कुमार हजाम और जोहन लिंड को गिरफ्तार किया था। हाल के दिनों में तुपुदाना इलाके में उग्रवादियों की गतिविधी बढ़ी है।

पिछले सप्ताह पुलिस के सामने से एरिया कंमाडर हो गया था फरार

तुपुदाना ओपी क्षेत्र के चितवादाग में पिछले सप्ताह पीपुल्स लिबरेशन फ्रंट आफ इंडिया का एरिया कंमाडर तिलकेश्वर गोप उर्फ राजेश गोप, मार्टिन केरकेट्टा, बादल लोहरा फरार हो गए थे। इस मामले में तीन की गिरफ्तारी हुई थी, लेकिन जो बड़े उग्रवादी थे वह पुलिस को चकमा देने में सफल रहे थे।

हाल के दिनों में कई कारोबारियों से रंगदारी की मांग

हाल के दिनों में पीएलएफआई के उग्रवादियों के द्वारा कई कारोबारियों से रंगदारी की मांग की गई है। पुलिस का कहना है कि राजू गोप गेंदा सिंह के लिए काम करता था। हाल के दिनों में वह जेल से बाहर निकला है। जेल से निकलने के बाद राजू गोप जमीन कारोबारियों को अपना निशाना बना रहा है।

थाना के हाजत से राजू गोप हो गया था फरार

पुलिस का कहना है कि राजू गोप को तुपुदाना पुलिस ने गिरफ्तार किया था। राजू गोप सिठिया थाना के हाजत से फरार हो गया था। इसके बाद पुलिस ने राजू गोप को रातू इलाके से गिरफ्तार किया था। पुलिस को राजू गोप के पास से छह पिस्टल मिला था। जेल से निकलने के बाद राजू गोप बालसिरिंग इलाके में सक्रिय था।

बरामद मोटरसाइकिलें चोरी की, सिमकार्ड भी फर्जी पते पर आवंटित

पुलिस ने पिछले सप्ताह तीन उग्रवादियों को गिरफ्तार किया था। पुलिस ने उग्रवादियों के पास से जो मोटरसाइकिलें बरामद की थी वह चोरी का निकला है। सिम कार्ड जो बरामद हुआ था वह फर्जी पते पर लिया गया था। पुलिस का कहना है कि इसी सिम कार्ड से रंगदारी की मांग की जाती है। उग्रवादी चोरी की बाइक का इस्तेमाल करते हैं और मौका पाते ही बाइक छोड़कर फरार हो जाते हैं।

Edited By: Sanjay Kumar