रांची । झामुमो नेता हेमंत सोरेन ने कहा कि साजिश के तहत राज्य में करीब सात लाख एसटी-एससी समुदाय के लोगों का मनरेगा जाब कार्ड रद कर दिया गया है। सरकार मनरेगा श्रमिकों को प्रावधानों के तहत रोजगार दे। इसके लिए पार्टी रोजगार दो सरकार का आंदोलन चलाएगी। अगर सरकार रोजगार देने में समर्थ नहीं है तो बेरोजगारों को 15 दिनों में बेरोजगारी भत्ता दे।

कहा कि राज्य में 45 लाख स्वीकृत मनरेगा जाब कार्ड है। कामगारों की संख्या 81 लाख है। जिसमें एससी-एसटी कामगारों की संख्या 44 फीसद से अधिक हैं। गिरिडीह, दुमका, लातेहार गढ़वा व अन्य जिलों में एससी-एसटी समुदाय के लोगों का बड़ी संख्या में जाब कार्ड रद किया गया है।

हेमंत ने कहा कि मनरेगा के तहत काम करने वालों लोगों को अभी तक भुगतान नहीं मिला है और सरकार 2017 में इस मद की 75 करोड़ रुपये खर्च नहीं कर पाई और राशि वापस हो गई। सोरेन ने कहा कि राज्य सुखाड़ की चपेट में है, लेकिन ग्रामीण इलाकों में किसानों को राहत नहीं मिल रही है। सिर्फ बैठकों का दौर जारी है। किसानों को अविलंब मुआवजा देने की सरकार से मांग की।

हेमंत ने कहा कि पार्टी राज्य में विशेष सदस्यता अभियान चलाएगी। कार्यकारी समिति की विस्तारित बैठक में विशेष अभियान को चलाने का निर्णय लिया गया है। इस बार पार्टी दस दिसंबर से दस जनवरी तक विशेष सदस्यता अभियान चलाएगी। इस अभियान के जरिए 50 लाख लोगों को पार्टी का सदस्य बनाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इसके लिए सभी जिलों में दो-दो प्रभारी के रूप में वरिष्ठ नेता को नियुक्त किया जाएगा।

हेमंत ने कहा कि दस दिसंबर को महागठबंधन को लेकर दिल्ली में होने वाली बैठक में वो शामिल होंगे।

एक सवाल के जवाब में हेमंत ने कहा कि मुख्यमंत्री रघुवर दास के लिए इस राज्य में दरवाजे बंद हो चुके हैं। बेहतर होगा कि वो छत्तीसगढ़ जाए, तो वहा कुछ आउटपुट मिलेगा। सीएम के सामने अब झामुमो को छोड़कर कोई नहीं है। एग्जिट पोल पर हेमंत ने कहा कि भाजपा अब इन प्रदेश की सत्ता से बाहर हो गई है।

Posted By: Jagran