रांची, [आनंद मिश्र/नीरज अम्बष्ठ]। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केंद्र सरकार की महत्‍वाकांक्षी आयुष्‍मान भारत योजना की कमियां बताने को कहा है। रांची एयरपोर्ट पर रविवार को आयुष्‍मान भारत के करीब 500 लाभुकों के साथ प्रधानमंत्री ने सीधी बात की। इस दौरान पीएम मोदी ने इलाज के दौरान आ रही परेशानी, गोल्‍डन कार्ड और निजी अस्‍पतालों में सर्जरी व उसके लिए किए जा रहे भुगतान के बारे में भी जानकारी ली। झारखंड के मुख्‍यमंत्री रघुवर दास के साथ रांची एयरपोर्ट पहुंचे पीएम ने कहा कि इस योजना में कोई भी परेशानी हो रही हो तो जरूर संबंधित को अवगत कराएं। पीएम के साथ झारखंड की राज्‍यपाल द्रौपदी मूर्मू भी मौजूद रहीं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झारखंड के हजारीबाग से मेडिकल कॉलेजों की सौगात देने के बाद रांची में महत्‍वाकांक्षी आयुष्‍मान भारत योजना के 30 लाभुकों से मिले और उनके साथ योजना के क्रियान्‍वयन से जुड़े अनुभव बांटे। इस योजना के तहत इलाज करा चुके लाभुक व उनके परिजनों ने आयुष्‍मान भारत से जुड़े संस्‍मरण साझा करते हुए कहा कि निजी अस्‍पतालों में इलाज की परेशानियां दूर की जानी चाहिए। पीएम मोदी से रांची एयरपोर्ट पर मिलने के लिए आयुष्‍मान भारत योजना के करीब 600 लाभुक पहुंचे। हालांकि इनमें से 30 लाभुकों से ही पीएम मोदी ने संवाद किया। कुछ तकनीकी दिक्‍कतों के कारण प्रधानमंत्री के कार्यक्रम का लाइव प्रसारण एयरपोर्ट पर नहीं किया जा सका।

रांची एयरपोर्ट पर लाभुकों से बात
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से ऑपरेशन के कारण अर्जुन महतो मिलने नहीं आ सके, उनके पुत्र पहुंचे। वे इस योजना से काफी संतुष्ट दिखे। कहा कि शुरू में इस योजना का लाभ लेने में परेशानी हुई। लेकिन जब प्रक्रिया की जानकारी मिल गई तो तुरंत लाभ मिल गया। दिल के रोगी, नवजात, प्रसूता आैर सर्जरी आदि करवा चुके लाभुक यहां प्रधानमंत्री से मिलने वालों में शामिल रहे।

हजारीबाग की मंजू देवी चलने-फिरने में असमर्थ थीं। डॉक्टर ने हिप रिप्लेसमेंट जरूरी बता दिया था। शुरू में तो पैसे के अभाव में रिप्लेसमेंट नहीं करा पाईं। गोल्डन कार्ड बना तो रांची के मां राम प्यारी आर्थो हॉस्पिटल में हिप का रिप्लेसमेंट कराया।

आयुष्‍मान बना है गरीबों का संबल
बोकारो के कसमार निवासी 70 वर्षीय अर्जुन महतो को जब दिल का दौरा पड़ा और डॉक्टरों ने अविलंब ऑपरेशन कराने की बात कही तो उनके पैर के नीचे से धरती ही खिसक गई। भला हो 'आयुष्मान भारत' योजना का जिससे उनकी बाईपास सर्जरी रांची के मेडिका अस्पताल में बिल्कुल मुफ्त हो गई। हजारीबाग के रवि यादव तो इस योजना को शायद कभी भूल नहीं पाएंगे। बड़े अरमान से अस्पताल में अपने होने वाले संतान के इंतजार में थे। लेकिन पत्नी ने बेहद कमजोर और अस्वस्थ बच्चे को जन्म दिया तो सारे अरमानों पर पानी फिरता दिखने लगा। गोल्डन कार्ड उनके हाथ में था, सो उनके दिल के टुकड़े का इलाज मुफ्त हुआ। बच्चा अब स्वस्थ है।

सिलाई दुकान बंद कर कराया शाहिद का इलाज
रामगढ़ के चितरपुर निवासी 28 वर्षीय मो. शाहिद का चेहरा उबलते चाय से पूरी तरह झुलस गया था। सिलाई का काम करनेवाले मौसम अली ने न केवल शाहिद का गोल्डन कार्ड बनवाया बल्कि अपनी सिलाई दुकान बंदकर रांची के देवकमल अस्पताल में उसके चेहरे की प्लास्टिक सर्जरी कराई। बकौल अली, 'हम उससे कहे, वह भी गरीब, हम भी गरीब। चलो सर्जरी करा देते हैं। इलाज में पैसे लगने के सवाल पर कहा, 'झूठ काहे बोलें, कार्ड था तो एक पैसा नहीं लगा। आने-जाने का ही खर्चा ही जो लगा।

यह भी पढ़ें : PM Modi in Jharkhand: पीएम के आगमन से पहले रांची एयरपोर्ट पर लगी आग, अफरातफरी
यह भी पढ़ें : PM Modi in Jharkhand: हजारीबाग में पीएम मोदी बोले, झारखंड के काम को और गति देने आया हूं

Posted By: Alok Shahi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप