रांची, राज्य ब्यूरो। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद इस माह तीन दिनों तक झारखंड में रहेंगे। वे 28 सितंबर को रांची आएंगे। उनका राजभवन में ठहरने का कार्यक्रम है। वे अगले दिन 29 सितंबर को बिशुनपुर, गुमला में विकास भारती के कार्यों का अवलोकन करेंगे। वहां से लौटने के बाद राष्ट्रपति इसी दिन देवघर जाएंगे जहां वे बाबा बैद्यनाथ मंदिर में पूजा अर्चना करेंगे। वे अगले दिन 30 सितंबर को रांची विश्वविद्यालय के दीक्षा कार्यक्रम में शामिल होंगे।

बता दें कि बिशुनपुर, गुमला में विकास भारती के कार्यों का अवलोकन करने कुछ दिन पहले ही राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ के भैय्या जी जोशी भी पहुंचे थे। तब उन्‍होंने कहा था कि इसे आधुनिक तीर्थ के रूप में विकसित किया जाएगा। अब महामहिम राष्‍ट्रपति के आगमन के बाद विकास भारती के कार्यों को और ऊंचाई मिलने की संभावना बलवती हो गई है।

जिला प्रशासन ने तैयारियों का लिया जायजा

भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 29 सितंबर को बिशुनपुर आएंगे। राष्ट्रपति के निजी सचिव विक्रम सिंह ने विकास भारती के सचिव पद्मश्री अशोक भगत के उस निमंत्रण को स्वीकार किए जाने संबंधी कार्यक्रम की पुष्टि कर दी है। राष्ट्रपति के निजी सचिव ने विकास भारती के सचिव पद्मश्री अशोक भगत को लिखे पत्र में उनके कार्यक्रम की पुष्टि की। पत्र में कहा गया है कि राष्ट्रपति ने छोटानागपुर के जनजातीय सांस्कृतिक राजधानी बिशुनपुर में आना स्वीकार कर लिया है।

29 सितंबर को राष्ट्रपति पूर्वाह्न 10:15 बजे बिशुनपुर पहुंचेंगे और विकास भारती में होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रम में पूर्वाह्न 10:45 बजे तक उपस्थित रहेंगे। राष्ट्रपति के आने की जानकारी मिलने के बाद जिला प्रशासन ने अपनी तैयारियां आरंभ कर दी है। उपायुक्त शशिरंजन और आरक्षी अधीक्षक अंजनी कुमार झा मंगलवार को बिशुनपुर पहुंचे। दोनों उच्चाधिकारियों ने विकास भारती के अधिकारियों के साथ चल रही सांस्कृतिक कार्यक्रम की जानकारी ली। सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया।

दोनों अधिकारियों ने एसएस प्लस टू स्कूल बिशुनपुर में बनने वाले हेलीपैड, ज्ञान निकेतन, सृजन एवं तक्षशीला आश्रम का जायजा लिया। उनके साथ उप विकास आयुक्त हरि कुमार केसरी, प्रशिक्षु आइएएस मनीष कुमार, गुमला के एसडीपीओ नागेश्वर प्रसाद सिंह, एपीओ रजनीकांत, पथ प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता बिनोद , भवन प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता बिहारी लाल मुंडा आदि थे। राष्ट्रपति एसएस हाई स्कूल के मैदान में बने हेलीपैड पर उतरेंगे और तक्षशीला आश्रम में पहुंचेंगे। उसके बाद ज्ञान निकेतन जाएंगे। आश्रम में रह रहे अनाथ एवं गरीब बच्चों से मुलाकात करेंगे। सृजन परिसर में चल रहे विकास भारती के विभिन्न आयामों का जायजा लेंगे।

Posted By: Alok Shahi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस