गुमला, जासं। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के बढ़ते प्रसार के नियंत्रण एवं रोकथाम के मद्देनजर उपायुक्त शिशिर कुमार सिन्हा की अध्यक्षता में जिलास्तरीय कोविड टास्क फोर्स की बैठक आईटीडीए भवन के सभागार में हुई। कोविड-19 के तीसरे लहर से निपटने हेतु सिविल सर्जन ने बताया कि सदर अस्पताल के ऊपरी तल्ले में शिशुओं के लिए पीडियाट्रिक वार्ड की स्थापना की गई है। सदर अस्पताल में कुल 110 बेड हैं।

जिसमें से 36 बेड पीडियाट्रिक वार्ड में हैं, जबकि शेष पाइपलाइन से संचालित 74 बेड कोरोना प्रभावित मरीजों के ईलाज हेतु व्यवस्थित है। उन्होंने बताया कि पीडियाट्रिक वार्ड के 36 बेडों में से पी.आई.सी.यू के 19 बेडों को पाइपलाइन के माध्यम से जोड़ा गया है तथा शेष 17 बेडों को ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर के माध्यम से जोड़ा गया है। सिविल सर्जन ने बताया कि पीएसए प्लांट की अधिष्ठापना हेतु स्वास्थ्य विभाग द्वारा स्थल चिन्हित कर लिया गया है। इसपर उपायुक्त ने सिविल सर्जन को सदर प्रखंड सहित रायडीह, घाघरा, बसिया तथा चैनपुर प्रखंडों में ऑक्सीजन प्लांट के अधिष्ठापन हेतु प्रस्ताव तैयार कर समर्पित करने का निर्देश दिया।

सिविल सर्जन ने बताया कि अग्निशमन विभाग को लेखा परीक्षा हेतु सभी आवश्यक कागजात उपलब्ध करा दिए गए हैं, किंतु ऑडिट हेतु आवश्यक नक्शा नहीं होने के कारण ऑनलाइन फायर सेफ्टी ऑडिट नहीं हुई है। इसपर उपायुक्त ने सिविल सर्जन को अगले एक सप्ताह के अंदर ऑफलाइन फायर सेफ्टी ऑडिट सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। बैठक के क्रम में उपायुक्त ने जिला एवं प्रखंड स्तरीय सभी कोविड टीकाकरण केंद्रों पर सेल्फी प्वाइंट अधिष्ठापित कर फोटोग्राफ्स के माध्यम से प्रतिवेदित करने का निर्देश दिया। बैठक में उपायुक्त ने 18 प्लस एवं 45 प्लस लाभार्थियों के टीकाकरण की अद्यतन स्थिति की समीक्षा की। जिले में कुल 206 ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर उपलब्ध हैं। इसपर उपायुक्त ने प्रखंडों के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों को उपलब्ध कराए जाने वाले ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटरों का पूर्ण चिकित्सीय उपयोग करने का निर्देश दिया।

Edited By: Vikram Giri