रांची, जासं। Post Covid Exercises कोरोना महामारी का संक्रमण पर कई तरह की शारीरिक समस्याएं पैदा कर रहा है। कई लोगों की रिपोर्ट नेगेटिव आने के बावजूद बीमारी के पुराने लक्षण बरकरार रख रहे हैं। इसमें शारीरिक कमजोरी, सुगंध और स्वाद का वापस ना होना, खांसी, सर्दी, उल्टी और दस्त, गले में खरास जैसी समस्याएं कायम रह रही हैं। कई लोगों के फेफड़े में फैला संक्रमण ठीक होने में समय ले रहा है। 

फाइब्रोसिस के कारण फेफड़ों से निकलने वाली खून की नलियां क्षतिग्रस्त हो जाती है। इसको ठीक होने में समय लगता है। ऐसे में जरूरी है कि बीमारी से उबरने के बावजूद किसी तरह की लापरवाही ना बरती जाए। एम्स के पढ़े हुए चिकित्सक डॉ. रवि कांत चतुर्वेदी ने बताया कोरोना से ठीक हो चुके व्यक्तियों के शरीर में एंटीबॉडी विकसित होने में 30 से 40 दिन का समय लगता है।

इस दौरान लोगों को विशेष सावधानी बरतने की आवश्यकता है। थोड़ी सी लापरवाही आपको एक बार फिर ज्यादा बीमार कर सकती हैं। कोरोना की रिपोर्ट नेगेटिव आने के बावजूद यदि आपके शरीर में लक्षण बने हुए हैं तो इस बारे में तत्काल अपने चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए। कई बार बीमारियों में चलने वाली हाई एंटीबायोटिक दवाओं के कारण आंत और लीवर में समस्याएं आती हैं।

कई बार फेफड़ों को पूरी तरह से ठीक से काम ना करने के कारण शरीर के विभिन्न हिस्सों में खून और ऑक्सीजन सही मात्रा में नहीं पहुंच पाता। इस कारण भी समस्याएं होती हैं। ऐसे में जरूरी है कि कोरोना से ठीक हुए लोग लगातार चिकित्सकों के संपर्क में रहें। शारीरिक दूरी का पालन करें। मास्क का इस्तेमाल करें। अपने हाथों को साफ रखें। भीड़भाड़ वाले इलाकों में जाने से बचें। शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले भोजन लें। अपनी डाइट को चिकित्सकों के परामर्श के अनुसार ही तय करें।