रांची, जासं। राज्य में अभी तक कोरोना का एक भी पॉजिटिव केस नहीं आया है। यह झारखंड के लिए राहत की बात है। राज्य भर में अब तक 130 के करीब संदिग्धों की जांच हो चुकी है। वहीं 1000 से ज्यादा संदिग्ध मरीजों की स्क्रीनिंग की जा चुकी है। लेकिन किसी में भी वायरस की पुष्टि नहीं हुई। इसके बाद भी लोगों में इसे लेकर काफी खौफ का माहौल है। शुक्रवार को एक युवती सर्दी-खांसी की शिकायत लेकर जांच के लिए सदर अस्पताल पहुंची।

यहां से उसे रिम्स जाकर कोरोना वायरस की जांच कराने की बात कही। इतने में ही लोग खुद उससे दूरी बनाने लगे। सभी उसके पास जाने से डरने लगे। युवती डॉक्टर की पर्ची लेकर वहां से बाहर आयी। मिशन चौक पहुंची, तो वहां तैनात पुलिसकर्मियों ने उसे रोक लिया। युवती ने बताया कि उसकी तबीयत खराब है। सदर अस्पताल में दिखाने के बाद डॉक्टर ने कोरोना की जांच लिखी है।

उसने पुलिसकर्मी को डॉक्टर की पर्ची भी दिखायी। पर्ची और उस पर कोरोना वायरस देखते ही पुलिसकर्मियों ने भी उससे दूरी बना ली। वहां सदर अस्पताल के डॉक्टर भी पहुंचे। जहां से पुलिसकर्मियों ने गुरुनानक अस्पातल की एंबुलेंस को बुलाकर उसे जांच के लिए रिम्स भेजा।

नगर निगम के कर्मचारी को बुलाकर जगह को कराया सैनिटाइज

इधर, युवती के जाने के बाद पुलिसकर्मियों ने नगर निगम के कर्मचारी को बुलाकर उस जगह को सैनीटाइज कराया गया, जहां युवती बैठी थी। उस जगह पर कीटनाशक का छिड़काव करवाकर उसे सैनीटाइज करवाया गया। इससे पता चलता है कि लोगों में कोरोना वायरस को लेकर किस कदर खौफ का माहौल है। ऐसे में लोगों को सावधान रहने की जरूरत है, क्योंकि कोरोना वायरस ने एक को भी अगर अपनी चपेट में लिया, तो सैकड़ों लोगों पर खतरा मंडराने लगेगा।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस