रांची, राज्य ब्यूरो। रांची के जगन्नाथपुर थाना क्षेत्र में शनिवार को चोरी की मोटरसाइकिल के साथ तीन अपराधी दबोचे गए हैं। सिमडेगा के जलडेगा से मोटरसाइकिल चोरी करने के बाद फेसबुक पर बेचने के लिए एड डालना ही मोटरसाइकिल चोरों के लिए काल बन गया। वह एड घूमते घूमते मोटरसाइकिल मालिक बानो निवासी अरबाज कुरैशी के एक दोस्त के पास पहुंच गई। इसके बाद फेसबुक में दिए गए संपर्क नंबर पर संपर्क किया तो चोरों ने वाट्सएप पर मोटरसाइकिल का फोटो भी भेज दिया।

सौदा 30 हजार में तय हुआ। सिमडेगा के जलडेगा से चोरी हुई मोटरसाइकिल रांची के जगन्नाथपुर थाना क्षेत्र में हटिया स्टेशन रोड में खरीद-बिक्री होनी थी। ग्राहक बनकर सिमडेगा के बानो से रांची आए असली वाहन मालिक ने अपने साथियों व बिरसा चौक ट्रैफिक पोस्ट के पदाधिकारी एएसआइ देवेंद्र सिंह तथा सिपाही मुन्ना कुमार के सहयोग से तीन अपराधियों को पकड़वाया।

तीनों आरोपित जगन्नाथपुर थाना क्षेत्र में स्टेशन रोड से दबोचे गए। उनके पास से मोटरसाइकिल भी बरामद कर ली गई है। पकड़े गए आरोपियों में रांची के हेहल इटकी रोड निवासी लखेंद्र सिंह उर्फ कन्हैया सिंह, जलडेगा निवासी परिचिक बड़ाईक और ओडिशा के सुंदरगढ़ निवासी धनंजय सिंह शामिल है। उनके पास से चोरी की उक्त मोटरसाइकिल के अलावा एक डिजायर कार भी बरामद की गई है।

आरोपितों ने तीन अन्य मोटरसाइकिलों की चोरी का जुर्म कबूला है। गिरफ्तार तीनों आरोपितों को जगन्नाथपुर थाने में रखा गया है। थाना प्रभारी अनूप कर्मकार ने बताया है कि पूरा मामला सिमडेगा से जुड़ा है इसलिए आरोपितों को सिमडेगा पुलिस के हवाले कर दिया जाएगा। गिरफ्तार बाइक चोरो ने पुलिस को पूछताछ में बताया है कि वे कई मोटरसाइकिल की चोरी कर ग्रामीण इलाके में बेच चुके हैं। अब सिमडेगा पुलिस इनसे पूछताछ करेगी कि अबतक इनलोगों ने कितनी मोटरसाइकिलों की चोरी की है।

13 नवंबर को जलडेगा से हुई थी मोटरसाइकिल की चोरी

चोरी गई मोटरसाइकिल के मालिक सिमडेगा के बानो निवासी अरबाज कुरैशी ने बताया कि उन्होंने चार माह पहले ही मोटरसाइकिल खरीदी थी। गत माह 13 नवंबर को जलडेगा से उनकी यह मोटरसाइकिल चोरी हो गई थी। इस मामले में बानो थाने में चोरी की प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी। सभी मोटरसाइकिल की तलाश कर रहे थे। तभी फेसबुक पर एक अन्य मित्र के माध्यम से अरबाज को जानकारी मिली कि उनकी मोटरसाइकिल बिकने वाली है, जिसकी फेसबुक पर विज्ञापन निकला है।

उसपर दिए गए नंबर पर अरबाज के मित्र ने फोन किया और वाट्सएप पर मोटरसाइकिल का फोटो मंगवाया। जब अरबाज आश्वस्त हो गया कि उसकी ही मोटरसाइकिल है, तब उसका सौदा तय करने लगा। बाइक चोरों ने उसे रांची में बुलाया। रांची में अरबाज अपने अन्य साथियों के साथ बानो से पहुंचा। स्टेशन रोड में सौदा की बात थी। अरबाज व उसके साथी बिरसा चौक पर तैनात यातायात के जमादार देवेंद्र सिंह को पूरी जानकारी दी। प्लान बना कि चोरों को पकडऩा है।

पुलिस वर्दी में थी और ऑटो में बैठकर दोनों तरफ से पर्दा गिराकर अरबाज के पीछे-पीछे गई और कुछ दूरी पर रूक गई। चोर जैसे ही उसकी मोटरसाइकिल लेकर आए, अरबाज ने इशारा कर दिया और पुलिस ने अरबाज व उसके साथियों के सहयोग से तीनों ही आरोपितों को दबोच लिया। उसके पास से चोरी की मोटरसाइकिल के अलावा एक कार भी मिली है। तीनों ही आरोपितों से जगन्नाथपुर थाने में पूछताछ की जा रही है।

पहले भी जेल जा चुका है लखेंद्र, दर्ज हैं हत्या सहित कई मामले

जगन्नाथपुर पुलिस के अनुसार गिरफ्तार लखेंद्र सिंह कई बार जेल जा चुका है। उसपर हत्या का भी आरोप है, जिसमें वह जेल गया था। मूल रूप से वह हेहल इटकी रोड गैस गोदाम के पास रहता है। उसने जगन्नाथपुर थाना क्षेत्र में कई घटनाओं को अंजाम दिया है।

चर्चा में रहे हैं एएसआइ देवेंद्र सिंह

यातायात जमादार देवेंद्र सिंह हमेशा ही चर्चा में रहे हैं। वे राष्ट्रपति सराहनीय सेवा पदक से भी सम्मानित हो चुके हैं। उन्होंने इससे पहले एके-47 व पिस्टल के साथ तीन उग्रवादियों को दबोचा था। ट्रैफिक पोस्ट पर चेन झपटने वाले व दारू माफिया को भी पकड़ा। उन्हें कई बार रिवार्ड भी मिल चुका है।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस