रांची, जासं । कोरोना महामारी के प्रसार के साथ लोगों की जागरूकता बढ़ी है। व्यवस्था लगातार बिगड़ रही है। सोमवार को एक तरफ जहां राज्य के सबसे बड़े चिकित्सा संस्थान रिम्स में सुबह 9:30 बजे तक कोविड-19 की जांच और रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया प्रारंभ नहीं हो सकी थी। सर्वर डाउन होने के कारण काम नहीं हो पा रहा था।सैकड़ों लोग जहां तहां खड़े होकर अपनी बारी की प्रतीक्षा करते हुए दिखाएं। दूसरी तरफ रांची रेलवे स्टेशन पर कोरोना जांच कराने के लिए सैकड़ों लोग कतारबद्ध नजर आए।

इसमें से बहुत सारे लोग ऐसे थे, जो रेलवे से यात्रा करने के लिए नहीं बल्कि केवल कोविड-19 की जांच कराने के लिए रेलवे स्टेशन पहुंचे हुए थे। कतार में खड़े लोगों ने बताया कि उन्हें अपने शरीर में बीमारी के लक्षण महसूस हो रहा है। परिवार और दूसरे लोगों को बचाने के लिए वह जांच कराने के लिए आए हुए हैं। राजधानी रांची में हर दिन जांच कराने वाले लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है। इस कारण सैंपल की रिपोर्ट आने में 2 से 3 दिन लग रहे हैं। कई रिपोर्ट में कहीं नाम गलत हो रहे हैं तो कहीं उम्र और मोबाइल नंबर गलत लिखे गए हैं। इस बारे में मरीजों की तरफ से पूछने पर बताया जा रहा है कि जांच के लिए सैंपल की संख्या बढ़ने के कारण काम बढ़ा है। इस कारण डाटा चढ़ाने में मानवीय गलतियां हो रही हैं।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप