रांची, राज्य ब्यूरो। राज्य के 1.66 लाख से अधिक सरकारी कर्मियों से संबंधित आधार नंबर, फोन नंबर, नाम, पता आदि सूचनाएं सार्वजनिक होने की सूचना पर आइटी विभाग अलर्ट हो गया है। सर्वर डाउन करके मामले की पड़ताल की जा रही है। आइटी सचिव विनय कुमार चौबे ने बताया कि केंद्र से प्राप्त सूचना के बाद जब प्रारंभिक जांच हुई तो डाटा पूरी तरह से सुरक्षित पाया गया फिर भी सावधानी बरतते हुए विस्तृत जांच की जा रही है।

जानकारी के अनुसार राज्य के 1.66 लाख सरकारी कर्मियों की हाजिरी बायोमीट्रिक प्रणाली से बनाने के लिए तैयार व्यवस्था को पासवर्ड से सुरक्षित नहीं रखने पर सवाल उठाया गया। टेक क्रंच की रिपोर्ट के अनुसार कर्मियों की हाजिरी बनाने के लिए तैयार वेब सिस्टम को 2014 से बिना पासवर्ड के रखा गया था। इस रिपोर्ट के आधार पर केंद्र ने झारखंड सरकार को सूचना दी और फिर पूरे मामले की पड़ताल शुरू हुई।

सूचना को सही माना जाए तो कर्मियों के आधार नंबर, नाम, जॉब टाइटल, फोन नंबर आदि लीक हो रहे थे। हालांकि आइटी सचिव ने दावा किया कि डाटा पूरी तरह से सुरक्षित है। आधार डाटा लीक होने को लेकर झारखंड पहले से भी संवेदनशील रहा है और आधार कार्ड नहीं होने के कारण यहां के हजारों उपभोक्ताओं  को सरकारी राशन मिलना बंद हो गया था। इस कारण आधा दर्जन से अधिक लोगों की भूख से भी मौत हो गई थी। इसके बाद राज्य सरकार आधार कार्ड से संबंधित मामलों में सावधानी बरत रही है।

Posted By: Alok Shahi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप