रांची, जासं। रांची के लालपुर स्थित ज्वेलरी दुकान 'गहना घर' में हुए गोलीकांड के विरोध में व्यापार बंद का  मिलाजुला असर दिखा। झारखंड चैंबर द्वारा सोमवार को बुलाए गए सांकेतिक व्यापार बंद के दौरान शहर की सभी सोना दुकानें बंंद रही। इस दौरान विभिन्न व्यापारिक संगठनों के सदस्य सुबह से ही सड़क पर रहे और कोकर, लालपुर, हिनू डोरंडा, अपर बाजार आदि इलाकों में खुले प्रतिष्ठानों को बंद कराने की अपील करते रहे। 

आज व्यापारी अल्बर्ट एक्का चौक 11 बजे के बाद पर जूटे और  मेन रोड में मार्च किया। इस दौरान सैकडों की संख्या में व्यापारी पुलिस प्रशासन हाय हाय, सरकार हमें सुरक्षा दो के नारे लगा रहे थे। चैम्बर अध्यक्ष कुणाल अजमानी ने बताया कि बंद को राज्य भर से जोरदार समर्थन मिला है। रांची की लाखों दुकानें समेत राज्य भर में व्यापारियों ने स्वैच्छिक बंदी की है।

इससे पूर्व रविवार को चैंबर भवन में आयोजित संवाददाता सम्मेलन के दौरान चैंबर अध्यक्ष कुणाल अजमानी ने 'व्यापार बंद' की घोषणा की थी। जिसे सोना-चांदी व्यवसायी समिति ने समर्थन दिया। बता दें कि 14 अक्टूबर को रांची की ज्वेलरी दुकान 'गहना घर' में घुसकर डकैतों ने दुकानदार रोहित खिरवाल और राहुल खिरवाल को गोली मार दी थी। मामले में पुलिस को कोई खास सफलता नहीं मिली है। अपराधियों की अब तक गिरफ्तारी नहीं होने से व्यवसायियों में आक्रोश है।

आरजीटीए ने किया समर्थन

राज्य में गिरती कानून व्यवस्था के विरोध में रांची गुड्स ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन (आरजीटीए) ने सोमवार को व्यावसायिक गतिविधियों को बंद रखने के निर्णय का समर्थन किया है। आरजीटीए के सभी सदस्य बंद को सफल बनाएंगे। मौके पर आरजीटीए के अध्यक्ष मदनलाल पारीक, पवन शर्मा, एसबी सिंह, एमपी सिंह, संजय जैन, सुनील सिंह चौहान, रंजीत तिवारी समेत कई लोग उपस्थित थे।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप