पलामू, जागरण संवाददाता। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा राज्यसभा में भेजे जाने के बाद झारखंड प्रदेश जदयू अध्यक्ष खीरू महतो राज्य में संगठन को मजबूत करने के लिए रेस हैं। वे राज्य के संताल और उत्तरी छोटानागपुर प्रमंडल का दौरा करते हुए रविवार को पलामू में थे। मेेदिनीनगर में जिला जदयू के सम्मेलन को संबोधित करते हुए राज्य की हेमंत सोरेन सरकार पर जमकर हमला बोला। कहा-यह सरकार निकम्मी है। चुनाव के समय किए गए वादों को पूरा करने की दिशा में ढाई साल में कुछ नहीं की। आने वाले ढाई साल में भी कुछ नहीं करने वाली है। राज्य में लूट और भ्रष्टाचार मचा है। यह किसी एक विभाग तक सीमित नहीें है। जहां हाथ डालिए वहीं दुर्गंध है।

पांच लाख युवाओं को नौकरी देना भूल गए हेमंत

महतो ने कहा कि झामुमो ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में 1932 के आधार पर स्थानीय और रोजगार नीति लागू करने का वादा किया था। अब मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन कहते हैं कि खतियान के आधार पर तैयार नीति को कोर्ट खारिज कर देगा। संसदीय कार्यमंत्री आलमगीर कहते हैं कि 1978 में भी खतियान बना था। विस्थापन नीति और विस्थापन आयोग बनाने की बात थी। पांच लाख युवाओं को नौकरी देनी थी। मुख्यमंत्री सारे वादे को भूल गए। महतो ने कहा कि झारखंड में बालू घाटों का टेंडर नहीं हुआ। इसके पीछे लूट और भ्रष्टाचार है। 500 रुपये का बालू 5 हजार में बिक रहा है। कोर्ट से अनुमति लेकर बिहार में सभी घाटों का टेंडर हुआ। इससे झारखंड सरकार सीख सकती थी। लेकिन मंशा ही ठीक नहीं है। महतो ने झारखंड में 27 फीसद ओबीसी आरक्षण नहीं देने के लिए हेमंत सरकार को घेरा और कुर्मी को आदिवासी का दर्जा देने की मांग की।

कहा- झारखंड आएंगे नीतीश कुमार व ललन सिंह

सभी जिलों में जिला से बूथ स्तर तक जदयू की कमेटी को बनाने और मजबूत करने का आह्वान करते हुए महतो ने कहा कि विधानसभा चुनाव की तैयारी के लिए दो साल का समय है। संगठन को मजबूत कीजिए। जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह और बिहार के मुख्यमंंत्री नीतीश कुमार राज्य के सभी प्रमंडलों में कार्यकर्ता सम्मेलन में भाग लेने आएंगे। सम्मेलन का संचालन डा. राज नारायण सिंह पटेल ने किया। प्रदेश महासचिव श्रवण कुमार, आरके मंडल, संजय कुमार सिंह, अनिल कुमार सिंह, डा. रामसेवक रम, पिंटू सिंह, महेश दांगी, अक्षय सिंह, बलदेव प्रसाद, बलराम तिवारी, जनकधारी मेहता, शंभुनाथ दुबे, संतोष तिवारी, अशोक निगम, यशवंत सिंह, प्रमोद सोनी, जीतेंद्र दुबे, अमरजीत यवद, सुधीर सिंह, ललन सिन्हा, अजय सिंह, सुशील कुमार मंगलम आदि शामिल थे। इससे पहले शनिवार की रात खीरू महतो के पलामू पहुंचने पर जदयू नेताओं-कार्यकर्ताओं ने जोरदार स्वागत किया।

बैठक में नहीं नजर आईं पूर्व मंत्री सुधा चौधरी

जदयू नेता पूर्व मंत्री सुधा चौधरी बैठक में नहीं दिखीं। वे जदयू की टिकट पर 2009 में छतरपुर विधानसभा से विधायक बनी थीं। राज्य की तत्कालीन अर्जुन मुंडा सरकार में मंत्री भी बनीं। उनके बैठक में भाग न लेने को लेकर तरह-तरह के मायने निकाले जा रहे हैं।

Edited By: M Ekhlaque