रांची, राज्‍य ब्‍यूरो। बिहार के मुख्यमंत्री सह जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार ने शनिवार को पटना स्थित सीएम आवास में झारखंड के पार्टी पदाधिकारियों के साथ मैराथन बैठक की। इस क्रम में उन्होंने झारखंड में पार्टी को मजबूत बनाने को लेकर गहन मंथन किया। इसमें नए प्रदेश अध्यक्ष की नियुक्ति पर भी चर्चा हुई। साथ ही संदेश भी दिया झारखंड में जदयू की ताकत बढ़ाइए तभी कोई करेगा गठबंधन।

प्रदेश के पार्टी पदाधिकारियों ने कहा कि इसपर राष्ट्रीय अध्यक्ष जो भी निर्णय लेंगे उन्हें स्वीकार्य होगा। इधर, चर्चा है कि बिहार के विधायक सुनील चौधरी तथा जमशेदपुर के शैलेंद्र महतो में से किसी एक को इस पद की जिम्मेदारी दी जा सकती है। हालांकि खीरू महतो व सुधा चौधरी का भी इसमें नाम आ रहा है। 14 जनवरी के बाद इसकी घोषणा कर दी जाएगी।

जलेश्वर महतो के कांग्रेस में चले जाने के बाद जदयू प्रदेश अध्यक्ष का पद रिक्त हो गया है। बैठक में नीतीश ने पार्टी की ताकत बढ़ाने के लिए काम करने की नसीहत प्रदेश नेताओं को दी। उन्होंने हाल ही में जदयू में शामिल चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर तथा राष्ट्रीय महासचिव आरसीपी सिंह को झारखंड में पार्टी के कार्यक्रमों तथा पार्टी को मजबूत बनाने के लिए किए जानेवाले कार्यो की मॉनीटरिंग का निर्देश दिया।

बैठक में लोकसभा और विधानसभा चुनाव पर भी चर्चा हुई। नीतीश ने स्पष्ट रूप से कहा कि पार्टी झारखंड में ताकत बढ़ाएगी तभी कोई दल उसके साथ गठबंधन के लिए आगे आएगा। बता दें कि झारखंड में भाजपा के साथ जदयू को कोई गठबंधन अभी तक नहीं हो सका है। प्रदेश प्रभारी रामसेवक सिंह ने भी स्वीकार किया है कि झारखंड में जदयू का भाजपा का गठबंधन नहीं है।

उन्होंने कई मौके पर लोकसभा व विधानसभा चुनाव सभी सीटों पर लड़ने की बात कही है। बैठक में प्रशांत किशोर, आरसीपी सिंह के अलावा झारखंड से पूर्व मंत्री सुधा चौधरी, पूर्व विधायक खीरू महतो, कृष्णानंद मिश्रा, भगवान सिंह, श्रवण कुमार, संजय सहाय के अलावा सभी जिला प्रभारी शामिल हुए।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस