रांची : बुंडू स्थित एक स्कूल परिसर में विधायक रमेश सिंह मुंडा की हत्या करनेवाले नक्सली अभी भी कानून की पकड़ से बाहर हैं लेकिन पुलिस के लिए राहत की बात यह है कि इनमें से तीन संदिग्ध आरोपियों तक नेशनल इंवेस्टिगेटिंग एजेंसी (एनआइए) पहुंच चुकी है। एनआइए की टीम लगातार नक्सल प्रभावित क्षेत्र में अपनी गतिविधियों को जारी रखे हुए है और सूत्रों के अनुसार फिलहाल तीन लोगों को टीम ने पूछताछ के लिए पकड़ा है। अधिकृत तौर पर वरीय अधिकारी इसकी पुष्टि नहीं कर रहे हैं। जानकारी के मुताबिक शुक्रवार से इन लोगों से पूछताछ की जाएगी। एनआइए इन्हें कोर्ट में प्रस्तुत करने के बाद रिमांड पर भी ले सकती है। सूत्रों के अनुसार एनआइए पूछताछ के लिए इन्हें किसी गुप्त जगह पर ले जाएगी। इसके पूर्व विधायक हत्याकांड में जिन चार लोगों को पुलिस ने पकड़ा था उनके खिलाफ कोई पुख्ता साक्ष्य पुलिस को नहीं मिल पाया था।

विधायक रमेश सिंह मुंडा की हत्या में दुर्दात नक्सली कुंदन पाहन का नाम सामने आया था। कुंदन के आत्मसमर्पण के बाद रमेश सिंह मुंडा के पुत्र और तमाड़ से आजसू विधायक विकास मुंडा ने अनशन किया था जिसके बाद मामले की जांच एनआइए को सौंपी गई थी। मामला लेने के बाद एनआइए ने स्कूल में पहुंचकर विभिन्न लोगों से जानकारी भी प्राप्त की थी। पुलिस से भी जानकारी ली गई थी। नौ साल पहले बुंडू में 09 जुलाई 2008 को तमाड़ के विधायक रमेश सिंह मुंडा को नक्सलियों ने गोलियों से भून दिया था। इस मामले में बुंडू पुलिस ने चार को गिरफ्तार किया लेकिन कमजोर अनुसंधान और सुबूत के कारण पुलिस को मुंह की खानी पड़ी। अनुसंधान के बाद दो साल की कड़ी मशक्कत का नतीजा सिफर रहा था। साक्ष्य के अभाव में चारों कोर्ट से बाइज्जत बरी हो गए। शुरुआती तफ्तीश के लिए जिन्हें पुलिस ने पकड़ा था उनमें तिलेश्वर महतो, बिंदु देवी, महादेव उरांव व महेंद्र उरांव शामिल थे। गिरफ्तारी के बाद मामले के चश्मदीद गवाह पूर्व विधायक के चालक नंद किशोर यादव ने पहले तो आरोपियों को पहचानने का दावा किया था लेकिन बाद में वे पलट गए थे। इस मामले में तत्कालीन थाना प्रभारी मणिभूषण प्रसाद निलंबित भी हुए थे। इसके बाद रविकांत प्रसाद थाना प्रभारी बनाए गए लेकिन दोनों ने अपना बयान न्यायालय में दर्ज नहीं करवाया। इस कारण से प्राथमिकी में जिन चार लोगों के नाम थे उन्हें लाभ मिला और वो आजाद हो गए। इधर, तीन लोगों के पकड़े जाने के बाद संभावना जताई जा रही है कि पुलिस एक बार फिर तमाम साक्ष्यों और गवाहों के बयान के आधार पर दोषियों की तलाश करेगी। सूत्र बताते हैं कि कुछ और लोगों की गिरफ्तारी इस मामले में हो सकती है।

--------

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप