रांची : राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत कुमार डोभाल ने अपर मुख्य सचिव अमित खरे की भूरी-भूरी प्रशंसा की है। ट्वीटर पर उन्होंने चारा घोटाले से संबंधित एक खबर को टैग करते हुए लिखा है कि ऐसे अधिकारियों के बारे में बराबर सुना है जो नेताओं के जूते चाटते हैं लेकिन एक ऐसा भी अधिकारी है जिसने..। ट्वीट के साथ टैग की गई खबर बता रही है कि कैसे एक भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी ने ईमानदारी का परिचय देते हुए चारा घोटाले का सबसे पहले खुलासा किया। 1993-94 में पश्चिम सिंहभूम के तत्कालीन उपायुक्त और वर्तमान में अपर मुख्य सचिव अमित खरे ने चाईबासा कोषागार से 34 करोड़ रुपये की अवैध निकासी के मामले को पकड़ा और इस पर प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दिया। चारा घोटाले में सीबीआइ के विशेष जज ने लालू यादव समेत 16 लोगों को दोषी ठहराया है। सजा की बिंदु पर सुनवाई अब 3 जनवरी 2018 को होगी। 1961 में जन्मे अमित खरे 1985 बैच के आइएएस अधिकारी हैं। उनकी पत्‍‌नी निधि खरे वर्तमान में कार्मिक विभाग में प्रधान सचिव के पद पर हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस