लोहरदगा, जासं। लोहरदगा शहर से लेकर प्रखंड मुख्यालय के साथ गांव-गांव में सोमवार को सादगी के साथ ईद-उल-फितर का त्योहार मनाया गया। ईद-उल-फितर के पर्व को लेकर मुस्लिम धर्मावलंबियों ने अपने-अपने घरों में ईद की नमाज पढ़ी जबकि मस्जिदों में सिर्फ चंद लोगों ने ईद-उल-फितर की नमाज अदा करते हुए घर-परिवार, समाज व देश में अमन-चैन की दुआ मांगी। वैश्विक महामारी कोविड-19 को लेकर मुस्लिम धर्मावलंबियों ने अपने-अपने घराें में नमाज पढ़ने और किसी को गले लगाकर ईद की शुभकामना नहीं देने की तैयारी पहले से ही पूरी कर ली थी।

इधर, रांची में भी ईद को लेकर सुरक्षा बलों की ओर से व्यापक इंतजाम किए गए थे। सुबह सवेरे सुरक्षा बलों की ओर से पेट्रोलिंग की गई। इस बार लोगों ने ईद की नमाज अपने-अपने घरों में अदा की। एक-दूसरे को शारीरिक दूरी का ख्याल रखते हुए बधाई दी। सुबह से ही मोबाइल और इंटरनेट के जरिए दूसरे को बधाई देने का सिलसिला प्रारंभ हो गया। इस बार लोगों ने पुराने कपड़े के साथ ईद मनाई।

लॉकडाउन के कारण इस बार लोगों ने पुराने कपड़े के साथ ईद मनाया। वहीं कोरोना वायरस के संक्रमण के डर से ईद पर्व का उल्लास फीका-फीका रहा। लॉकडाउन के कारण ईद मिलन समारोह का आयोजन नहीं हुआ। मुस्लिम समाज के लोगों ने फाेन व वाट्सएप पर एक-दूसरे को ईद की बधाई दी। इधर ईद को लेकर सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए गए थे। शहर से लेकर ग्रामीण क्षेत्र में सुरक्षाबल लगातार गश्त पर रही।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस