गुमला, जासं। गुमला पुलिस ने रविवार की अहले सुबह एंटी क्राइम चेकिंग अभियान में एसजेजेएम झांगुर गुट के सुप्रीमो रामदेव उरांव के एक अपराधी मुनीफ अंसारी को एके 56 रायफल के साथ गिरफ्तार किया है। हालांकि पुलिस को देखते ही रामदेव सहित तीन अपराधी रात के अंधेरा का लाभ उठाकर भागने में सफल रहे।

गिरफ्तार मुनीफ अंसारी की निशानदेही पर घाघरा में किसी बड़ी आपराधिक घटना को अंजाम देने के लिए उपयोग की जाने वाली हुंडई कंपनी की इओन कार से एक प्रतिबंधित एके 56 रायफल, जिसकी मैगजीन में 7.62 एमएम का 28 गोली भरा हुआ, एक कमोफ्लाइज जैकेट पाउच, 7.62 एमएम का 28 गोली भरा हुआ एक मैगजीन, पाउच से 12 बोर का चार जिंदा गोली और 12 ओर का तीन खोखा, जियो कंपनी का एक राउटर, बटन वाला एक फोन, आइटेल कंपनी का मोबाइल चार्जर, टोनी कंपनी का एक घड़ी, एक बाइक की चाबी एवं अन्य सामान बरामद किया है। मुनीफ की निशानदेही पर एक बाइक भी पुलिस ने जब्त किया है।

घाघरा में बड़ी आपराधिक घटना को अंजाम देने की थी योजना

एसपी एचपी जर्नादनन ने कहा कि एसजेजेएम झांगुर गुट के अपराधी घाघरा क्षेत्र में किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की फिराक में थे। गुप्त सूचना मिलने के बाद अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी मनीष चन्द्र लाल, पुलिस निरीक्षक एसएन मंडल, थाना प्रभारी अशोक पांडेय के नेतृत्व में छापामार दल का गठन किया गया। वाहन चेकिंग के दौरान देखा कि एक कार घाघरा से लोहरदगा की ओर जा रही है।

इसे रोकने का प्रयास किया गया तो कार चालक ने मोड़ कर भागने का प्रयास किया। पुलिस ने कार को घेर लिया। तब कार से तीन अपराधी भाग निकले। पुलिस ने एक अपराधी लोहरदगा जिला सेन्हा थाना के अररु निवासी मुनीफ अंसारी को धर दबोचा। उसने पूछताछ में बताया कि भागने वालों में झांगुर गुट का सुप्रीमो रामदेव उरांव, घाघरा का मनोज सिंह और रोपाकोना बिशुनपुर का अरविंद उरांव हैं। गिरफ्तार मुनीफ को पुलिस ने जेल भेज दिया है।

छापामार दल को मिलेगा प्रशस्ति पत्र व इनाम : एसपी

प्रेस कांफ्रेंस में एसपी एचपी जनार्दन ने कहा है कि एसजेजेएम के अपराधी की गिरफ्तारी गुमला पुलिस की बड़ी उपलब्धि है। पुलिस ने झांगुर गुट के सुप्रीमो का प्रतिबंधित रायफल व गोली बरामद किया है। इस अभियान में शामिल पुलिस के पदाधिकारियों व जवानों को प्रशस्ति पत्र और ईनाम दिया जाएगा।

आत्मसमर्पण की अपील

एसपी ने अपराधियों से फिर से आत्मसमर्पण करने और सरकार की आत्मसमर्पण नीति का लाभ उठाने की अपील है। कहा कि अपराध और अपराधी से पुलिस समझौता नहीं करेगी। बुद्धेश्वर के साथियों की किस्मत अच्छी थी कि वे जान बचाकर भागने में सफल हो गए। पुलिस ने उन्हें चारों ओर से घेर रखा था। उन्होंने रात में भागे रामदेव व उनके अन्य साथियों से भी आत्मसमर्पण करने की अपील की है।

Edited By: Sujeet Kumar Suman