रांची, राज्य ब्यूरो। कांग्रेस और झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के आधा दर्जन विधायक भाजपा में शामिल होने के लिए शुभ मुहूर्त का इंतजार कर रहे हैं। पिछले एक पखवाड़े से इन विधायकों के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल होने की चर्चा जोरों पर हैं, लेकिन फिलहाल ये माननीय समय, काल और परिस्थिति का आकलन कर रहे हैं। इनकी शामिल होने को लेकर कुछ शर्तें भी हैं, जिन पर भाजपा के राष्ट्रीय नेतृत्व की मुहर लगने के बाद ही वे अपने दलों को छोड़ेंगे। जाहिर है इन्हें यह भरोसा भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से ही चाहिए।

चर्चा यह भी है कि ये तमाम विधायक अमित शाह के समक्ष ही भाजपा की सदस्यता ग्रहण करेंगे। शाह या तो जल्द ही झारखंड का रुख करेंगे या ये विधायक दिल्ली जाकर भाजपा से जुड़ेंगे। लोकसभा चुनाव से पूर्व राजद छोड़कर अन्नपूर्णा देवी ने भी टिकट की गारंटी पर दिल्ली में ही भाजपा की सदस्यता ग्रहण की थी। जिन विधायकों के भाजपा में शामिल होने की चर्चा जोरों पर हैं, उनमें झामुमो के कुणाल षाडंगी, कांग्रेस के सुखदेव भगत, मनोज यादव, झामुमो के जय प्रकाश भाई पटेल प्रमुख हैं। जय प्रकाश भाई पटेल का नाम तो तय ही माना जा रहा है। वहीं, विपक्ष के संताल के कुछ और विधायकों के खेमे में सेंधमारी में भाजपा जुटी है।

हालांकि, कुणाल शनिवार को झामुमो की 'बदलाव यात्रा' में देखे गए, जिससे उनके जाने को लेकर अब भी संशय बना हुआ है। बता दें कि विधानसभा चुनाव से पूर्व विधायकों की अदला-बदली खूब चल रही है। झारखंड विकास मोर्चा के प्रकाश राम ने बाबूलाल मरांडी से किनारा करते हुए भाजपा का दामन थाम लिया है। वहीं, आजसू विधायक विकास मुंडा शनिवार को झामुमो के साथ हो लिए। विकास ने झामुमो की 'बदलाव यात्रा' में पाला बदल किया।

Posted By: Alok Shahi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप