रांची, जासं। कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए झारखंड के जामताड़ा विधायक इरफान अंसारी ने कोरोना पीड़ित मरीजों का इलाज करने का फैसला किया है। वे रिम्‍स में कोरोना संक्रिमत मरीजों का इलाज करेंगे। कोरोनावायरस को राष्ट्रीय आपदा घोषित की गई है। यह महामारी दुनिया भर के देशों में फैल चुकी है। भारत में भी अलग-अलग राज्यों में यह अपना कहर बरपा रही है। इसके साथ ही सभी राज्यों में चिकित्सक की कमी को दूर करने के लिए लगातार नियुक्तियां की जा रही है।

रिम्स में चिकित्सक, नर्सिंग स्टाफ, टेक्नीशियन सहित अन्य कर्मचारियों की भारी कमी है। नियुक्तियों पर रोक लगा दी गई। कई पदों पर चयनित उम्मीदवारों को सिर्फ नियुक्ति पत्र देने बचे हैं, जिस पर भी रोक लगी पड़ी है। इस बीच विधायक इरफान अंसारी अस्पताल में अपना योगदान देने का मन बना चुके हैं।

जब तक कोरोना का कहर देश में रहेगा, तब तक इरफान अंसारी रिम्स में ही मरीजों का उपचार करने में अपना समय देंगे। बता दें कि इरफान अंसारी रिम्स के ही पूर्व छात्र रह चुके हैं। मेडिकल की पढ़ाई पूरी करने के बाद करीब 4 साल बतौर इंटर्न रिम्स में सेवा भी दी है। इसके बाद अपने पिता फुरकान अंसारी की राजनीतिक सियासत संभालने के लिए राजनीतिक मैदान पर उतरे थे। वे वर्तमान में कांग्रेस पार्टी से जामताड़ा के विधायक हैं।

बता दें कि दो दिन पहले विधायक इरफान अंसारी ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से मुलाकात कर कोरोना मरीजों का इलाज करने की इच्‍छा व्‍यक्‍त की थी। उन्‍होंने मुख्‍यमंत्री हेमंत सोरेन को अनुरोध पत्र भी लिखा था। उन्‍होंने कहा था कि हमें इस महामारी का मिलकर सामना करना है। उन्‍होंने कहा था कि एक चिकित्‍सक होने के कारण मैंने मुख्‍यमंत्री हेमंत सोरेन से अनुरोध किया है कि मैं स्वेच्छा से सरकार के कोरोना के ख़िलाफ़ इस मुहिम में सेवा देना चाहता हूँ। अपनी सेवाएं निश्‍शुल्‍क देना चाहता हूं। इरफान अंसारी झारखंड विधानसभा में मुखर विधायक माने जाते हैं।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस