रांची, [दिलीप कुमार]। लोहरदगा जैसे अति नक्सल प्रभावित जिले में प्रधानमंत्री की सभा को लेकर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे। इसके बावजूद सुरक्षा में चूक की शिकायत हुई है। प्रधानमंत्री के लिए अति सुरक्षित जोन में तैयार हेलीपैड पर मुख्यमंत्री का हेलीकॉप्टर उतर गया था। इस चूक को रांची से लेकर दिल्ली तक के प्रशासनिक महकमे ने गंभीरता से लिया है।

स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (एसपीजी) की शिकायत पर केंद्र की कैबिनेट सचिवालय से निदेशक अरुण कुमार सिन्हा ने राज्य सरकार से रिपोर्ट मांगी है। इसकी कॉपी मुख्य सचिव, गृह सचिव व डीजीपी को भेजी गई है। यह भी कहा गया है कि शीघ्र ही इस मामले में जांच समिति गठित करें और इस घटना में अब तक की गई कार्रवाई से केंद्र को अवगत कराएं।

पत्र में बताया गया है कि 24 अप्रैल को लोहरदगा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभा के दौरान सुरक्षा घेरा टूटा था। प्रधानमंत्री के हेलीकॉप्टर के लिए जो हेलीपैड बने थे, वहां मुख्यमंत्री रघुवर दास का हेलीकॉप्टर उतारा गया था। पायलट के साथ-साथ उसे उतरने के लिए हरी झंडी दिखाने वाले भी दोषी बताए गए हैं। एसपीजी ने केंद्र को यह भी जानकारी दी है कि यह घटना उस वक्त की है, जब प्रधानमंत्री के आने में सिर्फ आधे घंटे ही बचे थे।

आनन-फानन में उक्त हेलीकॉप्टर को किसी तरह वहां से हटाया गया था। घटना के वक्त चूक से संबंधित यह जानकारी मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव व जिला प्रशासन से उसी वक्त साझा की गई थी। यह भी अनुशंसा की गई थी कि हेलीककॅप्टर के पायलट व हेलीकॉप्टर ऑपरेटिंग एजेंसी के विरुद्ध विधि सम्मत कार्रवाई की जाए। क्योंकि एक महत्वपूर्ण हेलीपैड पर दूसरे हेलीकॉप्टर का उतरना सुरक्षा की भारी चूक कही जाएगी।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sujeet Kumar Suman

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप